यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शहर में मासूमों की जान से खिलवाड़ का अब तक का सबसे बड़ा मामला सामने आया है। गुरुवार को योगी इलाके के दौरे पर थे और कई अफसरों पर कार्रवाई भी की, पर इससे किसी ने सबक नहीं लिया और 25 बच्चों की मौत हो गई। पांच अन्य मरीजों की भी मौत हुई है।

बच्चों की मौत

ठप हो गई ऑक्सीजन सप्लाई

गोरखपुर से सांसद योगी के इलाके में दिमागी बुखार (जापानी इंसेफेलाइटिस) का कहर अरसे से जारी है। वहां के बीआरडी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में आईसीयू व इंसेफलाइटिस के मरीजों के वार्ड में गुरुवार से शुक्रवार तक 25 बच्चों की मौत हो गई।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


सुबह तक नहीं सुधरी स्थिति

बताया गया है कि मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल के आईसीयू और दूसरे वार्डों में गुरुवार रात 11ः30 बजे से बिगड़ी ऑक्सीजन सप्लाई शुक्रवार सुबह नौ बजे तक कई बार बाधित हुई। इससे इतने बच्चों की मौत हुई, जबकि पांच अन्य को जान गंवानी पड़ी। हालांकि अस्पताल में अन्य कमियों की भी बात कही गई है।

मृतकों में ज्यादातर नवजात

गुरुवार रात से ही बच्चों की मौत का सिलसिला शुरू हुआ तो फिर एक-एक कर कई जानें चली गईं। वहीं गोरखपुर के डीएम राजीव रौतेला का कहना है कि बच्चों की मौत इंसेफलाइटिस से हुई है। मृतकों में ज्यादातर नवजात हैं।

कंपनी-हॉस्पिटल में तूतू मैं मैं

बीआरडी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल के सीएमएस का कहना है कि ऑक्सीजन की सप्लाई करने वाली कंपनी को भुगतान कर दिया गया था। फिर भी उसने सप्लाई रोक दी। वहीं कंपनी का कहना है कि भुगतान न मिलने पर सप्लाई रोकी गई। जो भी वजह हो, जान तो मासूम मरीजों की गई है।

राज्य सरकार ने दी सफाई

वहीं, यूपी सरकार के प्रवक्ता ने शुक्रवार देर शाम कहा कि ऑक्सीजन की कमी से पिछले कुछ घंटों में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कई रोगियों की मृत्यु होने के संबंध में समाचार भ्रामक हैं। प्रवक्ता के अनुसार मेडिकल कालेज में शुक्रवार को भर्ती सात मरीजों की विभिन्न चिकित्सीय कारणों से मृत्यु हुई है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...