पूर्व क्रिकेटर और राज्यसभा सांसद सचिन तेंदुलकर ने गुरुवार को संसद में पहली बार बहस में हिस्सा लेने की कोशिश की, पर उनका डेब्यू अच्छा नहीं रहा। उनका पहला ही भाषण विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ गया।

2012 में सांसद बनने के बाद पहला भाषण

2012 में सांसद मनोनीत होने के बाद सचिन तेंदुलकर का राज्यसभा में पहला भाषण था। वह अपने भाषण की शुरुआत करने ही वाले थे कि विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। विपक्ष लगातार मनमोहन सिंह के मुद्दे पर हंगामा कर रहा है।

सचिन तेंदुलकर ने हाथ में थामी झाड़ू तो गदगद हो गए प्रधानमंत्री मोदी भी


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


पत्नी के साथ राज्यसभा पहुंचे थे सचिन तेंदुलकर

विपक्ष के हंगामे के बीच सभापति वेंकैया नायडू ने लगातार विपक्ष से अपील की, जो व्यक्ति बोल रहा है वह भारत रत्न है, इसे पूरा देश देख रहा है। सचिन तेंदुलकर अपनी पत्नी अंजलि के साथ राज्यसभा पहुंचे थे।

जया बच्चन ने उठाया कांग्रेस के रवैये पर सवाल

सपा नेता और अभिनेत्री जया बच्चन ने सचिन के भाषण के दौरान कांग्रेस के रवैये पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि जिसने देश का नाम कमाया, उसे ही बोलने नहीं दिया गया। मुझे ऐसा लगता है कि सचिन इससे अपसेट हैं। कांग्रेस को उन्हें सदन में बोलने देना चाहिए था।

टेलीविज़न के महागुरु को कैंसर, सचिन भी करते हैं इनकी कद्र

इस मुद्दे पर भारत रत्न सचिन को रखने थे विचार

सचिन देश में खेल और खिलाड़ियों को लेकर व्यवस्था, ओलंपिक की तैयारियों और किस तरह भारतीय खिलाड़ी दुनियाभर में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं, इस पर अपने विचार रखने थे।

गैर मौजूदगी पर उठते रहे हैं सवाल

इसके अलावा सचिन यह मुद्दा भी उठा सकते हैं कि जो खिलाड़ी देश के लिए मेडल जीतते हैं, उन्हें रिटायरमेंट के बाद काफी कम पैसा मिलता है। बताते चलें कि इससे पहले सचिन की राज्यसभा में गैर मौजूदगी पर भी सवाल उठते रहे हैं।

 

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...