जर्मनी की चांसलर पद पर एंजेला मार्केल एक बार फिर सुशोभित होंगी। पर क्या आप जानते हैं कि एक वक्त ऐसा भी था जब उन्हें छोटी लड़की कहकर लोग चिढ़ाते थे। बर्लिन के पास एक छोटे से गांव में पली-बढ़ी वही मार्केल आज दुनिया की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में से एक हैं।

हैम्बर्ग में हुआ था जन्म

गांव में उन्हें छोटी लड़की कहकर चिढ़ाया जाता था। पर राजनीति में आईं तो तमाम उठापटक के बावजूद उनका कद लगातार बढ़ता ही गया। उनका जन्म 17 जुलाई, 1954 को हैम्बर्ग में हुआ। पादरी पिता दो महीने बेटी को लेकर पूर्वी जर्मनी में जा बसे।

अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप को जर्मनी में नहीं मिला होटल का एक कमरा


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


एंजेला की दो शादियां हुईं

वहां एंजेला ने भौतिकी में डॉक्टरेट की डिग्री हासिल की। यही नहीं, उन्होंने दो शादियां कीं। उनकी पहली शादी 1977 में और दूसरी 1998 में हुई। 1989 में बर्लिन की दीवार को ढहाने के लिए आंदोलन में शामिल हुईं।

चांसलर से मांगा इस्तीफा

एंजेला 1990 में सीडीयू पार्टी में शामिल हुईं और 1999 में महिला व युवा मंत्री बनीं।  मुखर इतनी कि घोटाले में फंसे अपनी ही पार्टी के चांसलर हेलमट कोहल से इस्तीफा मांग लिया था। इससे पहले तक उनकी पहचान छोटी लड़की की ही थी।

आसमान में दो सूरज, है तो चमत्कार पर जर्मनी के वैज्ञानिकों ने कर दिखाया

2005 में पहली महिला चांसलर

साल 2000 में एंजेला को सीडीयू ने पार्टी अध्यक्ष चुना और 2005 में जर्मनी की पहली महिला चांसलर बन गईँ। उनकी नीतियां इतनी प्रभावी हैं कि मंदी के दौर में खर्च कम जर्मनी को बड़ी अर्थव्यवस्था बनाया।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...