एक वक्‍त था जब आपने भी सुनी होगी बेहतरीन कव्‍वाली ‘चढ़ता सूरज धीरे-धीरे….’। एक बार फिर वही कव्‍वाली एक नए अंदाज में वायरल हो रही है। इस बार भी इसके एक-एक शब्‍दों में उतनी ही गहराई है जितनी कि उस समय हुआ करती थी। आइए देखें क्‍या है इस बार इसका अंदाज।

बढ़ गया है ऐसा चलन
गौरतलब है कि इन दिनों कई पुराने गानों को नए अंदाज में नई फिल्‍मों में दिखाने का चलन बढ़ गया है। अब तो नब्बे के दशक के भी कुछ गाने रीक्रिएट किये जाने लगे हैं। इसी तर्ज पर एक यादगार पुरानी कव्‍वाली भी आ गई है सामने।

पढ़ें इसे भी : कपिल के शो में शूटिंग से भारती ने किया इंकार, चाहती हैं ऐसा बदलाव


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


 

नए अंदाज में दिखाया गया है
निर्देशक मधुर भंडारकर ने अपनी आने वाली फिल्म ‘इंदु सरकार’ में एक पॉपुलर कव्वाली को फिर से नए अंदाज में दिखाकर सबका ध्यान खींच लिया है। ये कव्‍वाली है आज जवानी पर इतराने वाले कल पछताएगा, चढ़ता सूरज धीरे-धीरे ढलता है ढल जाएगा…।

पढ़ें इसे भी : आइए मिलाएं आपको शाहरुख की बहन से, इस कारण से नहीं रहीं कभी लाइम लाइट में

ये है इसकी कामयाबी का राज
इस कव्वाली को कई सिंगर्स ने अपने-अपने अंदाज में गाया है। यही इसकी कामयाबी का राज भी है। शायद इसलिए भी मधुर भंडारकर की नजर इस कव्वाली पर पड़ी और उन्होंने इसे अपनी फिल्म ‘इंदु सरकार’ का हिस्सा बनाया।

पढ़ें इसे भी : ये लो, अभी से करीना कपूर ने कर दी तैमूर के डेब्‍यू फिल्‍म की घोषणा

यू-ट्यूब पर किया गया लॉन्‍च
बुधवार को यू-ट्यूब पर इसे लांच किया गया। मूल रूप से इस कव्वाली को गाया है अजीज नाजा ने। कव्वाली के बोल कैसर रत्नागिरवी  ने रचे हैं। ‘इंदु सरकार’ के लिए इसको अपनी आवाज मुज्तबा अजीज नाजा ने दी है जबकि म्‍यूजिक अनु मलिक का है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...