ग्रैंड मास्टर शिफूजी भारद्वाज को यूट्यूब, फेसबुक ट्विटर सहित तमाम जगहों पर देखा होगा. अपने यूट्यूब चैनल से लेकर इन्स्टाग्राम पर शेयर किये गए हर वीडियो में शिफूजी खुद को सेना का अधिकारी दिखाने की कोशिश करता था. हद तो ये है कि ये जनाब अपने लिंक्डइन पेज पर बहुत कुछ दावे करने के साथ 16 भाषाएँ जानने का दावा करते हैं. लेकिन ढोल के अन्दर का पोल एक दिन लोगों के सामने आ ही जाता है.

बिना लम्बे बालों के कैसे लगेंगे टाइगर श्रॉफ, आप भी देखिये

ग्रैंड मास्टर शिफूजी भारद्वाज


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


इस व्यक्ति को अक्सर देशभक्ति के कार्यक्रमों सहित किसी सैन्य कार्रवाई के समय मीडिया चैनलों पर भी दिखाया जाता रहा है. इसी चमक धमक का असर ये हुआ कि इस शख्स को बॉलीवुड में बागी फिल्म में काम का भी मौका मिला. और तो और जनाब कई बड़े सेलेब्रिटीज के ट्रेनर भी हैं.

लेकिन जैसे ही इनके पीछे की सच्चाई बाहर आने लगी इनके वीडियोज डिलीट होने का सिलसिला भी चल पड़ा. अब तक तमाम वीडियोज हटा दिए गए हैं. जबकि शिफूजी का कहना है कि उनके अकाउंट हैक किये गए हैं और वीडियो डिलीट किये गए हैं.

जीन्यूज चैनल तो इस मामले में कुछ और ही आगे निकल गया.

ग्रैंड मास्टर शिफूजी भारद्वाज

एक यही चैनल नहीं टीआरपी के लालच में शिफूजी को अपने चैनल में बुलाने से पहले किसी ने भी उसका बैक ग्राउंड चेक करने की जहमत नहीं उठायी.

सेना के नाम पर अक्सर भारतीय भावुक हो जाते हैं और इसी को शिफूजी ने हथियार बनाया. डिबेट और पोस्ट में पाकिस्तान के नाम पर उसे गालियाँ देने का लाइसेंस मानों मिला हुआ था. भगत सिंह की तरह नुकीली मूछें रखकर खुद को रौबदार बनाने के उसके सपने के पीछे लोगों का विश्वास हासिल करने की ही मंशा थी.

आज तो बचा लिया टाइगर ने, वरना दिशा को हो ही जाना था ऊप्स मूवमेंट का शिकार

शिफूजी के इस फर्जी काम की शुरुआत ही मीडिया हाउस हुयी. वे शिफूजी को इंटरव्यू में बुलाते थे और उसका परिचय सेना के एक अधिकारी के रूप में करवाते थे. इस तरह शिफूजी को फेमस होने में टाइम ही नहीं लगा. बॉलीवुड में बागी फिल्म भी उसी का नतीजा थी,जिसमें शिफूजी टाइगर श्रॉफ का गुरू बना था.

शिफूजी का पर्दाफ़ाश होना तब शुरू हुआ जब अहमदाबाद के अभिषेक शुक्ला ने शिफूजी शौर्य भारद्वाज एक्सपोज्ड स्टोलेन वैल्योर चैनल की शुरुआत की. इसमें शिफूजी का भांडा फोड़ा गया.

शिफूजी के खिलाफ उत्तर प्रदेश के भूतपूर्व सैनिक संघ के अध्यक्ष मेजर आशीष चतुर्वेदी ने शिफूजी के क्ल्हिलाफ़ विशेष बल की वर्दी में वीडियोज और फ़ोटोज़ डालने और खुद को सेना का अधिकारी बताने के विरुद्ध शिकायत दर्ज कराई है.

ग्रैंड मास्टर शिफूजी भारद्वाज

इस तरह से शिफूजी को अपना भांडा फूटने के बाद कबूल करना पड़ा कि वो कभी सेना का अधिकारी था ही नहीं. इसके अलावा फेसबुक पर शेयर किये गए अपने बहादुरी और आर्मी की ड्रेस वाले वीडियो और फ़ोटोज़ हटा दिए. अपनी वेबसाइट बंद कर दी और अपना पेज भी बंद कर दिया.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...