आज की दुनिया में टेक्नोलॉजी और गैजेट्स का आम जीवन में दखल बढ़ता ही जा रहा है। पर यह खतरनाक भी हैं। याद कीजिए वे दिन, जब मोबाइल नहीं था और तमाम लोगों के लैंडलाइन नंबर एसटीडी कोड के साथ रटे रहते थे।

शादीशुदा जिंदगी में दरार का भी कारण

वर्तमान में कितनों के नंबर आपको याद हैं, जरा सोचिए। हद तो यह कि कई शोध में साबित हुआ है कि स्मार्टफोन या अन्य गैजेट्स की लत शादीशुदा जीवन में दरार का सबब बन सकती है। अब ब्रिटेन में हुए एक सर्वे का कहना है कि इससे अभिभावक अपने बच्चों से दूर हो जाते हैं।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


 

पढ़ाने और कहानियां सुनाने से आएंगे करीब

शोधकर्ताओं के मुताबिक बच्चों को पढ़ाना और कहानियां सुनाना उनके करीब जाने का सबसे कारगर जरिया होते हैं। दादा-दादी, नाना-नानी की कहानियों का दौर तो खत्म हो ही चुका है। अब अभिभावक भी ऐसा नहीं करते।

लाइन में लगने के बदले ढेरों डॉलर दिलाता है यह मोबाइल एप

ब्रिटिश संस्था ने शोध से किया साबित

अब तो फोन और इंटरनेट की लत के चलते माता-पिता बच्चों के लिए पर्याप्त समय नहीं निकाल पा रहे। ब्रिटिश चैरिटी संस्था बुकट्रस्ट के सर्वे में 4 से 11 साल के 2,000 बच्चों के अभिभावक शामिल हुए।

गैजेट्स के लिए है समय, बच्चों के लिए नहीं

इन लोगों ने प्रतिदिन औसतन 90 मिनट स्मार्टफोन और लैपटॉप के इस्तेमाल में गुजारने की बात स्वीकारी। वहीं, बच्चों को कहानियां सुनाने और पढ़ाने के लिए वे बमुश्किल 25 मिनट ही निकाल पाते हैं।

मोबाइल एप अब पहले ही जता देगा किसी को होने वाली बीमारी की आशंका

हड़बड़ी के कारण कर देते अनदेखा

सर्वे में यह भी देखा गया कि बच्चों के लिए कहानी या स्कूल का पाठ पढ़ते हुए माता-पिता अक्सर पन्ने छोड़कर आगे बढ़ जाते हैं। काम की थकान और स्मार्टफोन पर आने वाले मैसेज पढ़ने की हड़बड़ी इसकी मुख्य वजह पाई गई।

बच्चों संग किताबें लेकर बैठें

प्रमुख शोधकर्ता गिनी लुन के मुताबिक बच्चों में पढ़ने-लिखने की आदत विकसित करने के लिए मां-बाप का उनके साथ किताबें लेकर बैठना और उन्हें रोचक अंदाज में कहानियां सुनाना जरूरी माना जाता है।

बच्चों का प्रदर्शन सुधारना है, तो खुद सुधरें

इस तरीके से स्कूल में बच्चों का प्रदर्शन सुधाने में भी अच्छी-खासी मदद मिल सकती है। 43 फीसदी से ज्यादा बच्चे मां-बाप को पढ़ता-लिखता देखकर ही पढ़ाई के प्रति आकर्षित होते हैं। इसलिए वक्त है, अब भी सुधर जाइए।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...