अकाल मृत्यु से हर कोई घबराता है। इसके निवारण के लिये कई अनुष्‍ठान और उपाय किये जाते हैं। पंडित कुंडली देखकर ही बता पाता है कि कौन सा ग्रह क्‍या हानि देगा और कैसा लाभ। हमारे हिंदु धर्म में ग्रंथों, वेद, पुराण आदि में अनेक ऐसे मंत्र और अनुष्ठान दिये हैं जिनसे बीमारियों, कष्टों, समस्याओं के साथ-साथ अकाल मृत्यु और दुर्घटना का निवारण भी सम्भव है। वेदों की मानें तो दो ऐसे अचूक मंत्र है जिनके मात्र नाम लेने से ही कष्‍ट कम होने सा लगता है। ऐसा ही एक मंत्र है महामृत्यंजय मंत्र जिसे रुद्र मंत्र, त्रयम्बकम मंत्र, मृतसंजीवनी मंत्र आदि नामों से जाना जाता है।

हिंदी बिना सीखे यूपी जो आये, हवालात की हवा खाये

महामृत्यंजय मंत्र और उसका लाभ 


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


महामृत्युंजय मंत्र के जाप से साधक की अकाल मृत्यु से रक्षा होती है। शनि ग्रह के अशुभ प्रभाव, शनि की साढ़े साती अथवा ढैया के अशुभ फल को कम करने के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जप करना चाहिए।

अरिष्ट और अनिष्ट को दूर करने के लिए इस मंत्र का जाप किया जा सकता है।

क्‍या है महामृत्युंजय मंत्र
भगवान शिव को मृत्यंजय के रूप में समर्पित माना गया है। इस मंत्र के बीज अक्षरों में विशेष शक्ति है। इस मंत्र को ऋग्वेद का ह्रदय भी माना जाता है। मेडिटेशन के लिए इस मंत्र से बेहतर कोई और मंत्र नहीं है। मंत्र की श्रद्धापूर्वक साधना करने से जीवन में अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता है तथा और दुर्घटना आदि से बचाव होता है। इस मंत्र को शुद्ध रूप में इस प्रकार पढ़ा जाता है – “ॐ हौं जूं सः भूर्भुवः स्वः ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनानमृत्योर्मुक्षीय मा मृतात। स्वः भुवः भू ॐ सः जूं हौं ॐ।”

क्‍या है अमृत संजीवनी मंत्र
महामृत्युंजय मंत्र में जहां भगवान शिव के स्वरुप की व्याख्या करते हुए उसके चमत्कारिक प्रभाव का उल्लेख मिलता है, वहीँ अमृत संजीवनी मंत्र में महामृत्युंजय मंत्र और गायत्री मंत्र को शामिल किया गया है। अमृत संजीवनी मंत्र एक तरह से महामृत्युंजय मंत्र से अलग मंत्र है। इसे महामृत्युंजय मंत्र तथा गायत्री मंत्र का मिला-जुला रूप माना जा सकता है।

अमृत संजीवनी मंत्र के पाठ से जहां एक ओर अकाल मृत्य से सुरक्षा मिलती है, वहीँ स्वास्थ्य, शक्ति, धन-सम्पदा में भी आशातीत लाभ होता है। महर्षि शुक्राचार्य द्वारा जिस मंत्र का प्रयोग लोक जीवन की रक्षा के लिए किया गया उसे मृत संजीवनी विद्या के रूप में जाना जाता है। इस मंत्र के विश्लेषण से ज्ञात होता है कि इसमें महामृत्युंजय मंत्र और गायत्री मंत्र को समावेशित किया गया है। यह मंत्र इस रूप में है – ” ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुव स्वः ॐ तत्सवितुरवर्णेयं त्रयम्बकम यजामहे भर्गोदेवस्य धीमहि सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम धियो यो न प्रचोदयात उर्वारुकमिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मामृतात ओम स्वः भूभुवः ओम सः जूं हौं ओम

इस मंत्र का दूसरा रूप भी है – “ॐ हौं जूं सः ओम भूर्भुव स्वः ओम त्रयम्बकं यजामहे तत्सवितुर्वर्णेयं सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम भर्गो देवस्य धीमहि उर्वारुकमिव बन्धनात धियो यो न प्रचोदयात, मृत्योर्मुक्षीय मामृतात स्वः भुवः भुः ओम सः जूं हौं ॐ  

कैसे करें साधना 
महामृत्युंजय मंत्र अथवा अमृत संजीवनी मंत्र की साधना पूर्ण श्रद्धा, विश्वास और निष्ठा के साथ विधि -विधान से करनी चाहिए। शास्त्रों के अनुसार इस मंत्र का जाप शुक्ल पक्ष के सोमवार को भगवान शिव के मंदिर में कम से कम एक लाख बार किये जाने का विधान है। इसके लिए या तो स्वयं अथवा किसी वेद पाठी ब्राह्मण की मदद ली जा सकती है।

शिवलिंग पर यह चढ़ाएं

मंत्र का जाप करते समय शिव भगवान पर श्वेत पुष्प, दुग्ध, बेल पत्र, फल आदि अर्पित करने चाहिए। शिवजी की पूजा में सभी तरह के पुष्प जैसे कनेर, धतूरा, कटेरी, अपराजिता, चम्पा, शीशम, पलाश, नीलकमल, केसर, बेला, गूलर, जयन्ती, नागचम्पा, तगर, चमेली, गूमा आदि सुगन्धित पुष्प चढ़ाये जा सकते हैं।

आपने देखा है गेरुआ का ये स्पूफ, मजा न आए तो पैसे वापस

शिवलिंग पर यह कतई न चढ़ाएं

केतकी, कदम्ब, कपास, गाजर, सेमल, अनार, जूही, मदन्ती, कैथ, बहेड़ा और केवड़े के पुष्प चढा़ना निषेध है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...