अब कोई कुंवारा नहीं रहेगा। हां भई, अगर आप शादी करना चाह रहे हैं और वो हो नहीं रही तो आज हम आपको जो बातएगा वो काम सिर्फ कर डालिएगा फिर क्‍या चंद दिनों में चट मंगनी और पट ब्‍याह।

गंगा को भगीरथ धरती पर लाये और बचाने को सलीम आगे आये


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


अगर शादी करनी है तो भई थोड़ी सी ज़हमत भी तो उठानी पड़ेगी। इसके लिये आपको बस अजमेर तक जाना पड़ेगा। अरे…अरे हम अजमेर शरीफ या पुष्‍कर की बात नहीं कर रहे हैं बल्कि इसी जिले में स्थित एक मंदिर का जिक्र करने जा रहे हैं। आपको आश्‍चर्य जरूर होगा लेकिन यहां पर एक भेरू शादी देव बाबा का मंदिर है। यहां पर मात्र भेरू शादी देव बाबा के दर्शन करने और सात दिन पूजा करके दिए जलाने से शादी में आ रही बाधा दूर होती है।
सुभाष उद्यान के पास पहाड़ पर खोब्ररा नाथ भेरू शादी देव बाबा मंदिर स्थित है। इस मंदिर की मान्यता है कि यहां पर आकर अगर कोई कुंवारा या कुंवारी सात दिन तक दिए जलाकर पूजा-अर्चना करता है तो उसकी मनोकामना जल्द पूरी हो जाती है।

कहते है यहां पर कई कलैक्टर, एसपी, जिला मजिस्ट्रेट ने भी अपनी शादी के लिए मन्नत मांगी जिनकी मन्नत भेरू बाबा ने पूरी भी की।

मंदिर में मेला लगता है जिसमें कई कुंवारे लोग मन्नत मंगाते है तो कईयों की यहां के आशीर्वाद से शादी भी हुई है। सभी यहां दर्शन के लिए आते हैं।

बताया गया कि इस मंदिर को शिव के रूद्र रूप का वरदान है और यह कायस्थ समाज के कुल देवता है।

समाज हर दीवाली को कार्तिक अमावस्‍या के दिन सदियों से यहां आकर पूजा-अर्चना करता है। विशेष रूप से घर में लक्ष्मी के आगमन के लिए पूजा अर्चना की जाती है जिससे घर में लक्ष्मी के रूप में कन्या का आगमन हो। इसी परंपरा को निभाते हुए भेरू बाबा के दरबार में सभी समाज के लोग पहुंचने लगे और अपनी मनोकामना मांगने लगे।

पांच साल की नन्‍हीं फिरदौस ने जब सुनायी भगवद् गीता,उड़ गए सुबके होश

कई लोगो की मनोकामना पूरी हुई। आज भी इसीलिए बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंचते हैं और मनोकामना मांगते दिखते हैं। जिनकी मनोकामना पूरी होती है वो भी यहां दर्शन करने आते हैं आपको बताते चले कि इस मंदिर में अजमेर के राजा अजय पाल ने भी मन्‍नत मांगी और यहां आकर पूजा-अर्चना की थी।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...