दिल्ली में फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में भारत और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में प्रदूषण के बाधक बनने पर एनजीओ ग्रीनपीस ने बड़ा बयान दिया है। एनजीओ ने कहा है कि यह दुखद है कि श्रीलंकाई क्रिकेट टीम ने हवा की गुणवत्ता खराब बताकर मैच रोक दिया।

राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी

एनजीओ ने कहा है कि भारत को दिल्ली जैसे प्रदूषित क्षेत्रों में खेलों के आयोजन को लेकर अंतरराष्ट्रीय शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा है। एनजीओ ने कहा कि भारत में साफ करने में सबसे बड़ी बाधा राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी है।

कंक्रीट के जंगल में कंक्रीट ही दूर करेगा वायु प्रदूषण


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


मैच रद करना समस्या का हल नहीं

एनजीओ का कहना है कि इसका हल मैच रद करना या मैच के स्थान बदलना नहीं बल्कि हवा को व्यवस्थित, समन्वित और व्यापक कदमों से साफ करने में है। ग्रीनपीस इंडिया के सीनियर कैंपेनर सुनील दहिया ने कहा कि यह खराब स्थिति है।

पाक के खिलाफ खेली थी करियर की पहली पारी, पर रो पड़े थे क्रिकेट के भगवान

खिलाड़ियों ने मास्क लगाकर खेला मैच

उन्होंने कि हमें ऐसे प्रदूषित स्थानों पर खेलों का आयोजन करने के लिए अंतरराष्ट्रीय शर्मिंदगी का सामना करना पड़ रहा है। बताते चलें कि रविवार को भी श्रीलंका के खिलाड़ियों ने कई बार हवा की गुणवत्ता की शिकायत करते हुए मैच रोक दिया था और मास्क लगाकर मैच खेला था।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...