चीन ने गुरुवार को दुनिया की सबसे तेज बुलेट ट्रेन फूशिंग बीजिंग से शंघाई के बीच दौड़ा दी। 350 किमी प्रतिघंटे की औसत रफ्तार से इसने चीन की राजधानी से बीजिंग की दूरी महज साढ़े चार घंटे में तय कर ली। इस बीच इसने 1250 किलोमीटर की दूरी तय की।

अत्याधुनिक निगरानी प्रणाली

इस ट्रेन को नाम दिया गया है फूशिंग, जिसका मतलब है नवजीवन। इस बुलेट ट्रेन में अत्याधुनिक निगरानी प्रणाली लगी है, जिससे किसी आपात स्थिति का आभास होते ही इसकी गति अपने आप कम हो जाती है।

बुलेट ट्रेन को मारो गोली, अमरीका के बाद सीधे भारत में दौड़ेगी प्लेन से भी तेज ट्रेन


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


30 किमी प्रति घंटे अधिक रफ्तार

फूशिंग ट्रेन चीन में दौड़ने वाली पिछली बुलेट ट्रेन के मुकाबले 30 किमी प्रति घंटे की अधिक रफ्तार से चलेगी। यही नहीं, यह पिछले सभी मॉडल की ट्रेनों से 10 साल अधिक यानी पूरे 30 साल तक सेवाएं देती रहेगी।

सात जोड़ी ट्रेनें दौड़ेंगी

विश्व की सबसे तेज बुलेट ट्रेन चीन ने भीषण दुर्घना के छह साल बाद शुरू की है। इसने बीजिंग साउथ रेलवे स्टेशन से सुबह नौ बजे अपना सफर शुरू किया। बताया गया है कि जल्द ऐसी सात जोड़ी ट्रेनें शुरू की जाएंगी।

बुलेट ट्रेन की आधारशिला रखने के साथ ही शुरू हुआ चुनौतियों का सफर

एक घंटा कम समय लगेगा

नई बुलेट ट्रेन बीजिंग और शंघाई के बीच की दूरी एक घंटा कम समय में तय करेगी। यह अधिकतम 400 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है, जबकि औसत रफ्तार 350 किमी प्रति घंटा होगी। यह 10 फीसदी कम ऊर्जा से चलेगी।

रिमोट डाटा ट्रांसमिशन सिस्टम

खबरों में कहा गया है कि फूशिंग में रिमोट डाटा ट्रांसमिशन सिस्टम लगाया गया है, जिससे इसकी गति और चाल की मॉनिटरिंग बेहतरीन ढंग से की जा सकेगी। यात्रियों की सुविधा के लिए पूरी ट्रेन में वाईफाई की सुविधा दी गई है।

2011 में हुई थी भीषण दुर्घटना

इस ट्रेन का निर्माण पूरी तरह से चीन में ही किया गया है। इसके पहले 2008 में ही चीन बुलेट ट्रेन चला चुका है, पर 2011 में भीषण दुर्घटना के बाद इसने रफ्तार घटा दी थी। इस हादसे में 40 लोगों की मौत हो गई थी।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...