ये तो हद हो गई. सोमवार को यूपी के सहारनपुर में स्थित दारुल उलूम देवबंद के मुफ्ती ने एक फतवा जारी किया है. इस फतवे में कहा गया है कि महिलाओं का फुटबॉल मैच देखना इस्लाम धर्म के खिलाफ है.

इसे बताया धर्म के खिलाफ़
दरअसल मुफ्ती अतहर कासमी ने कहा कि फुटबॉल शॉट्स पहनकर खेला जाता है. तो ऐसे में पुरुषों को नग्न घुटनों के साथ देखना महिलाओं के लिए मना है. उन्होंने कहा ये इस्लाम धर्म के खिलाफ है.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


ऐसी है रिपोर्ट
हालांकि कासमी ने उन पतियों को भी लताड़ लगाई है जो अपनी बीवियों को फुटबॉल देखने की इजाजत देते हैं. रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार को कासमी ने कहा कि ‘क्या आपको शर्म नहीं आती? क्या आप ऊपरवाले से नहीं डरते हैं? आप अपनी बीवियों को ऐसी चीजें क्यों देखने देते हैं.’

ऐसा है इनका कहना
कासमी का कहना है कि औरतों को पुरुषों के जांघों को देखने की जरूरत ही क्या हैं? उनका मानना है कि महिलाएं अगर मैच देखेंगी तो उनका पूरा ध्यान पुरुषों के जांघों पर ही होगा और वो स्कोर पर भी ध्यान नहीं देंगी.

यहां मिली इजाजत
एक तरफ जहां देश में इस तरह का फतवा जारी हुआ तो दूसरी तरफ इसी महीने मुस्लिम देश सऊदी अरब ने  महिलाओं को स्टेडियम में फुटबॉल मैच देखने की इजाजत दे दी है.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...