डेरा सच्चा सौदा के मुखिया गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत इंसा को दिल्ली हाईकोर्ट में शरण नहीं मिली। मंगलवार देर शाम हाईकोर्ट ने उसे अग्रिम जमानत देने से इनकार करते हुए याचिका खारिज कर दी।

दिल्ली में पुलिस की छापेमारी

हनीप्रीत पर डेरा प्रमुख के साध्वियों से दुष्कर्म के मामले में दोषसिद्धि के बाद हिंसा भड़काने और देशद्रोह के आरोप हैं। इस मामले में पुलिस उसकी तलाश कर रही है। पंचकूला की अदालत से वारंट जारी होने के बाद हरियाणा पुलिस ने दिल्ली में छापेमारी भी की है।

हनीप्रीत को नया मैसेज


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


निचली कोर्ट में सरेंडर का विकल्प

उधर, दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस एसडी सहगल ने देर शाम फैसले में कहा कि यह मामला दिल्ली का नहीं है। याचिकाकर्ता को पंजाब व हरियाण कोर्ट में जाना चाहिए। हाईकोर्ट ने हनीप्रीत को विकल्प दिया कि वह चाहे तो दिल्ली की निचली अदालत में सरेंडर कर सकती है।

मामले की सुनवाई में देरी हो

जस्टिस सहगल ने कहा कि तथ्यों से साफ है कि हनीप्रीत ने दिल्ली में याचिका इसलिए दाखिल की है ताकि उसे थोड़ा वक्त मिल जाए और पंचकूला स्थित विशेष अदालत में मामले की सुनवाई में देरी हो। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने उसे किसी तरह का संरक्षण या गिरफ्तारी पर रोक लगाने जैसे आदेश देने से इनकार कर दिया।

इंतज़ार ख़त्म, बाबा से भी बड़ी वजह के कारण हनीप्रीत आ रही सामने

राजद्रोह की आरोपी है हनीप्रीत

हरियाणा पुलिस ने हाईकोर्ट में हनीप्रीत की अग्रिम जमानत याचिका का विरोध किया। कहा कि हनीप्रीत पर राजद्रोह व हिंसा फैसला जैसे गंभीर आरोप हैं। ऐसे में उसे अपनी पसंद से मंच (कोर्ट) चुनने की स्वतंत्रता नहीं मिलनी चाहिए।

बाबा रोज़ रात 10 बजे भेजता था नया मैसेज और हनीप्रीत करती थी थम्स अप

पुलिस के समर्थन में पुलिस

दिल्ली पुलिस ने भी हरियाणा पुलिस का समर्थन करते हुए कहा कि हनीप्रीत को दिल्ली के बजाय पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करनी चाहिए। हरियाणा पुलिस ने कहा कि आरोपी हरियाणा में याचिका दाखिल कर सकती है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...