राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के साथ ही पंचकुला जल उठा था. इस हिंसा में 38 लोग मारे गए थे और सैंकड़ों की तादाद में घायल हुए थे. इसके लिए पुलिस ने जिन्हें मुख्य आरोपी माना था वे हनीप्रीत और आदित्य इंसा अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं. जहाँ भी इनके होने की खबर पुलिस को मिलती है, पुलिस रेड  मारती है. लेकिन पता लगता है वे पुलिस के पहुँचने से पहले ही निकल चुके होते हैं. अधिकारियों को शक है कि अपने बीच में ही कोई हनीप्रीत का भेदिया है, जो जानकारी लीक कर दे रहा है.

राम रहीम को भेजे पहले मैसेज में हनीप्रीत ने ‘I Love You’ के साथ और क्या-क्या लिखा?

हनीप्रीत का भेदिया कर रहा कमाल

हनीप्रीत का भेदिया


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


दरअसल इस पूरे मामले में अब पुलिस के ही कुछ लोगों पर शक की सुई गहराती जा रही है. पंचकुला हिंसा के बाद हनीप्रीत डेरे में पहुंची. इस बात की जानकारी पुलिस को मिली, लेकिन जब तक पुलिस पहुँचती उससे पहले ही हनीप्रीत निकल गयी. भाई की ससुराल में हनीप्रीत की मौजूदगी की बात सामने आई. पुलिस ने रेड मारी, लेकिन हनीप्रीत पहले ही निकल गयी. इसके बाद हनीप्रीत अपने वकील के साथ दो घंटे तक रही, लेकिन पुलिस को इसकी जानकारी नहीं हुयी.

इसकी दूसरी सुबह दिल्ली के ग्रेटर कैलाश स्थित डेरे में हनीप्रीत  के होने की बात सामने आई. लेकिन जब हरियाणा पुलिस ने दबिश दी तो हनीप्रीत निकल चुकी थी. साड़ी बातों पर गौर फरमाएं तो एक बात कॉमन है कि हर जगह हनीप्रीत के होने का सबूत मिला  है  और रेड से कुछ देर पहले ही उसके उस जगह से निकलने की बात सामने आई है. यानी कोई ऐसा है जो रेड की बात को लीक कर दे रहा है.

पुलिस के आला अधिकारियों को भी पंचकुला एसआईटी टीम पर शक है. शक के गहराने की वजह ये है कि पिछले एक महीने से एसआईटी की रेड हनीप्रीत और आदित्य इंसा के लिए डाली जा रही है. दूसरी मछलियाँ जाल में फंसी हैं लेकिन अब तक हनीप्रीत और आदित्य इंसा इस जाल से बाहर हैं. जबकि सूचना सही मिली है फिर भी उस जगह पर रेड पड़ने से पहले ही हनीप्रीत निकल चुकी होती है.

अब देखिए हनीप्रीत की 18 बरस वाली फोटो, लग रही कश्‍मीर की कली

पंचकुला पुलिस की एसआईटी को गुरुग्राम के एक फलैट में हनीप्रीत के होने की जानकारी मिली, लेकिन पुलिस जब पहुंची तो पता चली कि पुलिस के पहुँचने से कुछ घंटे पहले ही हनी निकल गयी.

यही हाल आदित्य के बारे में पेश आ रहा है. आदित्य के बारे में जानकारी मिली कि गंगानगर में मौजूद है. पुलिस ने गंगानगर से बलजिंदर और पाल सिंह को यहाँ से गिरफ्तार किया था. उन्हीं से मिली जानकारी पर पुलिस ने आदित्य को पकड़ने के लिए गंगानगर में रेड मारी, लेकिन पता चला आदित्य कुछ समय पहले ही निकल गया.

इन बातों से साफ़ इशारा इस बात की ओर जा रहा है कि इनका कोई हितैषी पुलिस के खेमे में है जो पुलिस के रेड डालने से पहले ही इन्हें सूचना दे देता है और ये फरार हो जाते हैं. अधिकारियों ने पुलिस खेमे पर ही नज़र रखनी शुरू कर दी है. अपने बीच का दुश्मन पकड़ में आ जाए तो सामने वाला पकड में आ ही जाएगा.

हनीप्रीत ने कसम पूरी करने के लिए राम रहीम को बनाया बलात्कारी, अब खुला राज़

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...