जम्मू-कश्मीर हो या भारत का नार्थ ईस्ट इलाका भारतीय सेना आतंकियों के सफाए में जुटी हुई है. भारतीय सेना ने म्यांमार सीमा पर सेना का एक्शन हुआ और इसमें कई उग्रवादी ढेर हो गये. बुधवार तड़के करीब पौने पांच बजे हुई मुठभेड़ में उग्रवादियों को भारी नुकसान हुआ है. शुरुआती जानकारी में इसे सेना की सर्जिकल स्ट्राइक माना जा रहा था, लेकिन सेना ने कहा है कि उसने सीमा पार किए बगैर इस ऑपरेशन को अंजाम दिया है.

सेना हटाकर भारत से हुयी भूल, चीन ने कब्जाया डोकलाम

सेना का एक्शन, उग्रवादी ढेर

सेना का एक्शन


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


म्यांमार सीमा पर लांग्खू गांव के पास सेना का एक्शन हुआ जिसमे कई उग्रवादी मारे गए. भारतीय सेना के ईस्टर्न कमांड की ओर से जानकारी दी गई है कि सेना को कोई नुकसान नहीं हुआ है.

आज से ठीक एक साल पहले 28 से 29  सितंबर की रात भारतीय सेना ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक की थी, जिसमें आतंकियों के कई लॉन्चिंग पैड तबाह कर दिए गए थे.

सेना ने कहा

सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है, 27 सितंबर को तड़के भारत-म्यांमार सीमा पर भारतीय सेना की एक टुकड़ी पर अज्ञात उग्रवादियों द्वारा फायरिंग की गई. हमारे सैनिकों ने उग्रवादियों को तुरंत मुंहतोड़ जवाब दिया. जवाबी कार्रवाई के बाद उग्रवादी वहां से भाग निकले. इनपुट के मुताबिक बड़ी तादाद में उग्रवादी मारे गए हैं. इस मुठभेड़ में भारतीय जवानों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.’ सेना ने साफ कहा है कि भारतीय सैनिकों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पार नहीं की है.

आंखें न दिखाएं चीन-पाकिस्तान, भारतीय सेना के पास तबाही के इतने सामान

इससे पहले जून 2015 में भारतीय सेना ने क्रॉस बॉर्डर ऑपरेशन में म्यांमार की सीमा में घुसकर 15 उग्रवादियों को मौत की नींद सुला दिया था. भारतीय सेना ने मणिपुर के चंदेल में हुए हमले में 18 सैनिकों के मारे जाने के बाद यह कार्रवाई की थी. एनएससीएन (के) और केवाईकेएल के उग्रवादियों को काफी नुकसान पहुंचा था.

यह भी देखें 

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...