मिस्र में एक वकील के लिए लड़कियों से जुड़ा उसका विवादित बयान भारी पड़ गया है। वकील नबी अल वाह ने कहा था कि फटी जींस पहनने वाली लड़कियों का रेप करना राष्ट्रीय कर्तव्य है। कोर्ट ने इसके लिए उसे तीन साल की जेल की सजा सुनाई है।

लग चुका है जुर्माना

यही नहीं, वकील इससे पहले से विवादों में रहा और उस पर करीब साढ़े 72 हजार रुपए का जुर्माना भी लग चुका है। वकील ने यह बयान अक्तूबर में एक टेलीविजन पर हुई परिचर्चा के दौरान दिया था, जिसमें वेश्यावृत्ति पर कानून को लेकर बात हो रही थी।

यह दिया था बयान

अपने विवादित बयान में वकील ने कहा था कि मैं कहता हूं कि जब कोई लड़की सड़क से गुजरती है, तो उसका शोषण करना और रेप करना राष्ट्रीय कर्तव्य है।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


वकील साहब का काला कानून, फटी जींस पहनने वाली लड़कियों का रेप करना नेशनल ड्यूटी

रेप करना राष्ट्रीय कर्तव्य

टीवी चैनल अल असीमा पर उसने कहा था कि क्या आप सड़क से गुजरती लड़की को देख कर खुश होते हैं, जिसके शरीर के पीछे का हिस्सा दिख रहा होता है? मैं कहता हूं कि जब लड़की इस तरह से चले तो उसे सेक्सुअली हैरेस करना और उसका रेप करना राष्ट्रीय कर्तव्य है।

निमंत्रण देती हैं महिलाएं

वकील ने आगे यह भी कहा था कि जो महिलाएं छोटे कपड़े पहनती हैं, वे पुरुषों को उनका शोषण करने के लिए निमंत्रण देती हैं। ऐसे में अपनी सीमाओं की सुरक्षा करने से ज्यादा अहम सिद्धांतों की रक्षा करना होता है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...