भाजपा और एनडीटीवी की जंग कम होने का नाम नहीं ले रही है। एनडीटीवी ने भाजपा के आदर्श पण्डित दीन दयाल उपाध्याय की जन्मशती के बहाने पीएम मोदी और उनकी सरकार पर निशाना साधा है। चैनल के मुताबिक, भाजपा सरकार देशभर में पण्डित दीन दयाल उपाध्याय की जन्मशती से जुड़े कार्यक्रम कर रही है। लेकिन सरकार की ओर से ऐसी गलती हुई है, जो पण्डित जी के जन्मस्थान पर सवाल खड़ा कर रही है।

पीएम मोदी लायेंगे भारत में गिफ्ट, दुनिया के 150 देशों के बीच मिलेगा सबसे बड़ा सम्मान

भाजपा और एनडीटीवी की जंग

भाजपा और एनडीटीवी की जंग


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


दरअसल, प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) और भाजपा की आधिकारिक वेबसाइट पर दीन दयाल उपाध्‍याय के जन्म का स्थान अलग-अलग है। पीआईबी के अनुसार पण्डित जी का जन्म 25 सितंबर, 1916 को राजस्थान के धनकिया गांव में हुआ था। जबकि भाजपा की वेबसाइट के मुताबिक उनका जन्म 25 सितंबर, 1916 को उत्तरप्रदेश के मथुरा जिले के नगला चंद्रभान गांव में हुआ था।

इस गलती के सामने आने के बाद एनडीटीवी का कहना है कि भाजपा सरकार को अपने आदर्श के जन्मस्थान तक का ठीक से पता नहीं, जबकि वह पण्डित जी से जुड़े आयोजनों और विज्ञापनों पर लाखों रुपए खर्च कर रही है।

दीन दयाल उपाध्याय का जीवन

भाजपा और एनडीटीवी की जंग

दीन दयाल उपाध्याय का जन्म 25 सितंबर 1916 को मथुरा के नगलाचंद्रबन गांव में हुआ. दीन दयाल उपाध्याय के पिता ज्योतिषी थे. जब वह तीन साल के थे, तब उनकी माता का देहांत हो गया और जब 8 साल के थे तब उनके पिता का देहांत हो गया.

पढ़ाई में बचपन से ही तेज दीन दयाल हाई स्कूल के लिए राजस्थान के सीकर चले गए. सीकर के महाराज ने दीन दयाल को पढ़ाई के लिए किताबें खरीदने के लिए 250 रुपये और 10 रुपये की स्कॉलरशिप की व्यवस्था की.

गज़ब का इशारा, अब अज़ान की आवाज़ पर मोदी नहीं केजरी चलाएंगे डंडा

पिलानी में 12वीं डिस्टिंक्शन से पास करने के बाद दीन दयाल बीए करने के लिए कानपुर चले गए. यहां पर सनातन धर्म कॉलेज में दाखिला लिया. 1937 में अपने मित्र बलवंत महाशब्दे के कहने पर दीन दयाल ने आरएसएस से नाता जोड़ा. बीए करने के बाद दीन दयाल एमए की पढ़ाई के लिए आगरा चले गए. दीन दयाल एमए पूरा नहीं कर पाए.

यहां पर दीन दयाल उपाध्याय ने नानाजी देशमुख और भाऊ जुगाड़े के साथ पूरी तरह से आरएसएस के लिए काम किया. अपने एक रिश्तेदार के कहने पर सरकारी नौकरी की परीक्षा में दीन दयाल बैठे और परिणाम आने पर वह चयनित लोगों की वरीयता सूची में सबसे ऊपर थे. इसके बाद वह इलाहाबाद में बीटी करने चले गए.

इलाहाबाद में भी वह आरएसएस के लिए काम करते रहे और यहां से वह 1955 में लखीमपुर चले गए जहां पर पूरी तरह आरएसएस के लिए समर्पित हो गए.

लखनऊ में पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने राष्ट्र धर्म प्रकाशन की स्थापना की. यहां से पत्रिका राष्ट्र धर्म का प्रकाशन आरंभ किया. इसके बाद उन्होंने वर्तमान में आरएसएस का मुखपत्र पांचजन्य शुरू किया और इसके बाद स्वदेश नाम से एक पत्रिका का प्रकाशन आरंभ किया.

1950 में जब श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने नेहरू की कैबिनेट से इस्तीफा दिया. तब 21 सितंबर 1951 को पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने यूपी में भारतीय जन संघ की स्थापना की थी. पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी से मिलकर 21 अक्टूबर 1951 को जन संघ का राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया. 1968 में वह जन संघ के अध्यक्ष बने. इसके कुछ ही समय बाद 11 फरवरी 1968 को उनका देहांत हो गया.

दीन दयाल उपाध्याय ने राजस्थान में 9 में से 7 पार्टी विधायकों को पार्टी से निकाल दिया था जब उन्होंने राज्य में जमींदारी हटाने के कानून का विरोध किया था. 1964 में उन्होंने पार्टी के सत्ता में सिद्धांत को भी पार्टी कार्यकर्ताओं के सामने रखा था. बाद में इसका विस्तार उन्होंने 1965 में प्रस्तुत किया.

उपाध्याय ने बाद में ‘इंटिग्रल ह्यूमैनिज्म’ चार लेक्चरों के जरिए बॉम्बे में पार्टी की विचारधारा को अंतिम रूप दिया. बाद में भारतीय जन संघ ने इसे पार्टी की विचारधारा बनाया और फिर यही भाजपा की विचारधारा बनी.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...