कहते हैं निकले थे हरिभजन को ओटन लगे कपास. कुछ यही हाल फर्जी बाबाओं की लिस्ट जारी करने वाले बाबा के साथ हुआ है. हाल ही में राम रहीम को सजा सुनाये जाने के बाद अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद् ने ये निर्णय लिया था कि फर्जी बाबाओं की वजह से साधु-संतों का नाम बदनाम हो रहा है. इसलिए फर्जी बाबाओं के नाम उजागर कर दुनिए को ये बता दिया जाए कि इनसे संत समाज का कोई वास्ता नहीं है. लेकिन जिन बाबाओं के बाबा ने ये लिस्ट जारी की थी, अब वही बाबा गायब हो गए हैं.

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद्

दरअसल हाल ही में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद् ने फर्जी बाबाओं की एक लिस्ट जारी की थी. लेकिन इस मामले में अब एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता और श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के कोठारी महंत मोहनदास लापता हो गए हैं. वह शुक्रवार देर रात लोकमान्य तिलक ट्रेन में हरिद्वार से मुम्बई के लिए रवाना हुए थे. लेकिन, आधे रास्ते में उनके ट्रेन से गायब होने की सूचना मिलने पर अखाड़े के संतों ने पुलिस को जानकारी दे दी.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


बलात्कारी बाबा के परिवार का नया कारनामा, खोज रहे थे एक मिल गयीं दो हनीप्रीत

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद्

पुलिस के अनुसार, उनका मोबाइल नंबर स्विच ऑफ आ रहा है. ट्रेन की जिस बोगी में महंत मोहनदास सफर कर रहे थे, उसमें उनका सामान मिला है। पर उनके पास हमेशा रहने वाला एक छोटा बैग नहीं नजर आया. हरिद्वार पुलिस ने दिल्ली पुलिस से इस बारे में संपर्क साधा है. पुलिस की एक टीम दिल्ली रवाना भी की गई है.

mahnat mohandash

अध्यक्ष अखाड़ा परिषद श्रीमहंत नरेंद्र गिरी का कहना है कि हम फर्जी संतों की एक और सूची जारी करने वाले थे. लेकिन, मुझे और महंत मोहनदास को धमकी भरे फोन आने लगे. महंत मोहनदास के गायब होने में कथित संतों का हाथ हो. एसपी सिटी ममता बोरा ने बताया कि सूचना मिलते ही पुलिस शनिवार देर रात ही श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन पहुंच गई थी. एक टीम दिल्ली भेजी गई है.

फर्जी संतों की सूची जारी करने पर मिली धमकी

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के मुताबिक ट्रेन के भोपाल पहुंचने पर जब एक सेवक महंत मोहनदास को भोजन देने केबिन में पहुंचा तो महंत सीट पर नहीं मिले. श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के मुंशी अनिल कुमार ने बताया कि शनिवार रात 7 बजकर 45 मिनट पर महंत मोहनदास के गायब होने की सूचना फोन से मिली.

यात्रियों ने बताया है कि दिल्ली स्थित निजामुदीन स्टेशन के बाद से उनको ट्रेन में नहीं देखा गया. उधर, देर रात अफवाह उड़ती रही कि महंत मोहनदास इंदौर के किसी आश्रम में देखे गए हैं. हरिद्वार के एसएसपी कृष्ण वीके ने इसे अफवाह बताया.

बाबा की हनीप्रीत का ‘न्यूड’ वीडियो इंटरनेट पर वायरल!

गुरमीत राम रहीम को बलात्कार में सजा होने के बाद अखाड़ा परिषद् ने फर्जी बाबाओं की लिस्ट जरी की थी. उसमे राम रहीम, आसाराम और राधे मां समेत कई तथाकथित बाबाओं के नाम शामिल हैं.

अब शक की सुई सीधे तौर पर इन फर्जी बाबाओं पर जा रही है, कि इन फर्जी बाबाओं का ही मोहनदास के गयाब होने में हाथ है. राम रहीम को कोर्ट से दोषी ठहराया गया था, जिसके बाद पंचकुला में हिंसा हुयी, जिसमें 38 लोग मारे गए थे. फर्जी बाबाओं की लिस्ट में राम रहीम का भी नाम था. ऐसे में शक की सुई राम रहीम की तरफ ज़्यादा है. क्योंकि अगर वह जेल से हिंसा करवा सकता है तो बाबा को भी गायब करवा सकता है.

यह भी देखें 

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...