राम रहीम दो साध्वियों से रेप केस में 20 साल की सजा काट रहा है. राम रहीम को सजा सुनाये जाने के बाद दूसरे लोगों ने भी आवाज़ उठानी शुरू की. इसमें कई लोगों ने ये भी कहा था कि डेरे में जो भी राम रहीम के खिलाफ जाता था उसकी हत्या कर दी जाती थी और लाश डेरे में ही गाड़ दी जाती थी. इस बात को जब कोर्ट के संज्ञान में लाया गया तो कोर्ट ने सर्च ऑपरेशन के लिए सरकार को इजाज़त दी थी. अब बाबा की चहेती ने कहा है कि वह सारी जानकारी देने को तैयार है जो भी उसके पास है.

राम रहीम को भेजे पहले मैसेज में हनीप्रीत ने ‘I Love You’ के साथ और क्या-क्या लिखा?

बाबा की चहेती तैयार

बाबा की चहेती


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


सर्च ऑपरेशन के दौरान डेरे से सीसीटीवी कैमरे जब्त किये गए थे. लेकिन एक चौंकाने वाला खुलासा सामने आया है. जिसमें ये बताया गया है कि इन कैमरों को डैमेज करने की कोशिश की गयी है, जिस कारण इनका कुछ डेटा गायब भी हो गया है. इस मामले में सबसे ज़्यादा शक डेरे की चेयरपर्सन विपासना और वाइस चेयरपर्सन पी आर नैन पर है.

हालांकि इससे पहले भी दोनों को पूछताछ के लिए बुलाया गया था. लेकिन पुलिस अभी भी दोनों के जवाबों से संतुष्ट नहीं है. ऐसे में इन दोनों को ही दोबारा तलब किया जा सकता है. पुलिस इन दोनों ओहदेदारों को तलब कर सकती है.

बाबा की चहेती

जांच में ये भी बात सामने आई है कि सीसीटीवी से इरादतन छेड़छाड़ की गयी है. इसमें एक नहीं बल्कि कई लोग शामिल हो सकते हैं. पुलिस डेरे की 45 मेम्बरों वाली कमेटी से भी पूछताछ करना चाहती है, ताकि सच सामने लाया जा सके.

राम रहीम की गर्दन कसने के लिए हाईकोर्ट ने बिठाए पीएम मोदी के दो ख़ास हथियार

सिरसा के एसपी अश्विन शैणवी का कहना है कि बीते दिनों डेरे की चेयरपर्सन विपासना और वाइस चेयरपर्सन पीआर नैन को पूछताछ के लिए बुलाया गया था. पुलिस उनके जवाबों पर मंथन कर रही है और प्रक्रिया अभी जारी है. अगर ज़रूरत पड़ेगी तो फिर से दोनों को बुलाया  जाएगा. फिलहाल अभी डेरे से लापता हुए लोगों को ट्रेस करने का कार्य जारी है.

25 अगस्त को राम रहीम को कोर्ट द्वारा दोषी थाराए जाने के साथ ही पंचकुला और सिरसा में हिंसा भड़क उठी थी. इस आग को भड़काने वाले बहुत से लोगों को पिलिचे ने पकड़ा. लेकिन मामले के मुख्य दोषी कई अभी ऐसे हैं जिन्हें अभी तक पुलिस नहीं पकड़ पाई है. इस पूरे मामले में डेरे की चेयरपर्सन विपासना की भूमिका संदिग्ध है. 18 सितंबर को वह हुडा चौकी में एसआईटी के सामने विपासना पेश हुयी थीं.

इसके बाद वाइस चेयरपर्सन पीआर नैन भी पेश हुए थे. दोनों से बहुत से सवाल जवाब किये गए, उनकी रिकार्डिंग भी की गयी. कई सवालों के जवाब देते हुए उनके चेहरे पर घबराहट दिखी थी. दोनों ने कई सवालों का गोलमोल जवाब दिया था. इसी वजह से दोनों को फिर से पुलिस पूछताछ के लिए बुला सकती थी.

दोनों से फिर से पूछताछ का कारण है सीसीटीवी फुटेज के गायब हुए रिकॉर्ड को डेरे से माँगना. पुलिस ये जानना चाहेगी कि आखिर उसे डैमेज क्यों किया गया. इसके अलावा 2011 से 2017 तक डेरे से 21 लोग गायब हुए हैं. पुलिस उनके बारे में जानना चाहेगी. हनीप्रीत के अलावा राम रहीम की सबसे चहेती में एक नाम विपासना का भी है. इसलिए पुलिस विपासना को यूं ही नहीं छोड़ने वाली.

…जब राम रहीम की दरिंदगी से साध्वियों को बचाते थे पीरियड्स

फिलहाल बलात्कारी बाबा की चहेती ने इस बात का आश्वासन दिया है कि वह हर बात को बताने के लिए तैयार है, जो भी उसके संज्ञान में है. अब मामला उठता है कि क्या गहरे राज भी विपासना खोलेगी. या फिर  बस सवाल का गोलमोल जवाब देकर ही बात ख़त्म कर देगी. खैर, ये सब बातें तब दिखाई देंगी, जब विपासना से पूछताछ शुरू की जायेगी. तब तक विपासना को जितनी भी छलांग लगानी है लगा ले.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...