भाई जैसे-जैसे सर्दी जा रही है, वैसे वैसे गर्मी अपने पैर जमाने लगी है. ऐसे में अब तक गला तर करने की ख्वाहिश हम लोग कोका-कोला और पेप्सी से पूरी करते आये हैं. वही कोक जो आमिर खान गहरे कुएं से निकालते हैं. लेकिन तमिलनाडु वालों ने अब वो कोक उसी कुएं में दफनाने की सोची है.

ससीकला के खिलाफ तमिलनाडु में अब जयललिता पार्ट 2

कोका-कोला के गये दिन लद

मामला तमिलनाडु में कोक और पेप्सी के बैन का है. कोल्ड ड्रिंक के नाम पर सालों से ये उत्पाद भारत समेत दुनियाभर के बाज़ारों में कब्ज़ा जमाये हुए हैं. इनके बाद से घरेलू उत्पाद तो जैसे गायब ही हो गये थे. लेकिन कहते हैं न कि वक़्त का पहिया घूमता है. ऐसा ही हुआ है, जब तमिलनाडु के दुकानदारों ने पेप्सी और कोक का बहिष्कार कर दिया है.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


इसका असर जल्लीकट्टू के प्रदर्शन के समय दिखने लगा था, जब युवा इन पेय पदार्थों से दूरी बनाते नज़र आये थे. अब तमिलनाडु के दो बड़े व्यापारी संगठनों ने स्वदेशी पेय को बढ़ावा देने के लिए दुकानदारों से इनके बहिष्कार की अपील करते हुए इन पर बैन लगाया है. व्यापारी संगठनों का कहना है कि ये कंपनियां भूजल का बड़े पैमाने पर दुरुपयोग करती हैं.

यहाँ मुस्कुराना मना है, वरना चला जाता है मुख्यमंत्री पद

तमिलनाडु ट्रेडर्स फेडरेशन और Consortium of TamilNadu ने मिलकर राज्य के दुकानदारों से अपील की कि वे इन उत्पादों का बहिष्कार करें. इसकी बजाय Kali Mark, Bovonto और Torino जैसे देशी उत्पादों की बिक्री करें.

इस फैसले को एक मार्च से लागू किया गया है. इसका असर भी देखने को मिल रहा है. कोयम्बटूर के पास बने होटलों ने भी अपने यहाँ इन्हें बैन कर दिया है.

लोग अपना पुराना बचा स्टॉक कम दाम पर बेच रहे हैं और नया स्टॉक खरीदने से गुरेज कर रहे हैं.

इंडियन बेवेरजेस एसोसिएशन, ट्रेड संगठन के सेक्रेटरी अरविन्द वर्मा इस फैसले से नाखुश हैं. उनका कहना है कि ये सिर्फ ट्रेडर्स, रिटेलर्स और किसानों की ही बात नहीं है. इस पर देश का आर्थिक विकास टिका हुआ है.

जयललिता भी खुश, ससीकला भी खुश, जियो अश्विन! का गजब गुगली मारे हउ

अब भैया जी कुछ भी टिका हो, जब लोग ही खींचने पे तुले हों तो आधार भी नहीं छोड़ते. लेकिन ये जनता-जनार्दन है अगर एक बार इसने ठान ली तो फिर तो ये किसी की सुनती नहीं. अब अगर कोक पिआस लगे तो आस पास के कुँए तलाशो. हो सकता है अपने आमिर साहब वहीँ कोक को कुएं से बाहर निकालने की कोशश कर रहे हों. कुछ न सही अगर मिल गए तो आपका काम तो चला ही देंगे.

आओ चलो रूह आफजा वाला शरबत और लस्सी पियें, बाकी सब जाए भाड़ में.

 

 

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...