कंडोम… एक ऐसा शब्द, जिसके बारे में बात शुरू होते ही दिल के तार बजने लगते हैं. 450 साल पुराना ये ‘शारीरिक यंत्र’ अब एक अलग अंदाज़ में सामने आया है. आइकॉन नाम का ये स्मार्ट कंडोम आपकी मर्दानगी साबित कर सकता है.

सनी लियोनी बेबस, अब नहीं इस्तेमाल कर पाएंगी कंडोम

स्मार्ट कंडोम

आइकॉन कंडोम

जी हाँ, आइकॉन ऐसा कर सकता है. वैसे ये सिर्फ स्मार्ट कंडोम नहीं, एक रिंग है, जो बेहद हल्का और वाटर रेजिस्टेंट है. इसे कंडोम के सबसे निचले हिस्से पर लगाया जाता है. मज़े की बात यह कि आप कितने भी ताकतवर हैं, ये न फटेगा न टूटेगा. इसे जब मन हो, जितनी बार मन हो… इस्तेमाल कर सकते हैं.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


दरअसल आइकॉन एक नैनोचिप है, जिसमें सेंसर लगा है. ये ब्लूटूथ से अटैच होता है, जिसके जरिये इसके ऐप में डाटा रिकॉर्ड होता है.

आइकॉन एक घंटे में चार्ज हो जाता है और 6 से 8 घंटे तक झमाझम चलता है.

स्मार्ट कंडोम यानी आइकॉन

ये बताता है कि सेक्सुअल इंटरकोर्स में कितनी कैलोरी ख़त्म हुईं.

आपकी स्पीड का पूरा आकलन भी करता है

हर सेशन की फ्रीक्वेंसी और इस दौरान स्किन का टेम्परेचर बताएगा.

यही नहीं, ये सेक्स पोजीशन और आपकी कमर की नाप भी बताएगा.

देखें वीडियो और पिक्चर्स | कंडोम बन कर किसको रिझा रहे है रणवीर

कुल मिला कर इसे सिर्फ आइकॉन नहीं कंडोम का गुरु कह सकते हैं. वैसे, आइकॉन बनाने वाली कम्पनी ने ये भी कहा है कि ये डाटा कहीं शेयर नहीं किया जायेगा. हां, यूजर चाहे तो खुद इसे किसी को बता सकता है. इस स्मार्ट कंडोम की कीमत 5200 रुपए के करीब होगी.

अब कंडोम की बात शुरू हुई है तो दूर तलक चलते हैं. शुरुआत इतिहास से करते हैं. बात कंडोम के पहले इस्तेमाल की हो, तो वह साल 1564 की बात है.

स्मार्ट कंडोम

दुनिया का सबसे पहला कंडोम

इटली के भौतिक विज्ञानी गेब्रियल फेलोपियस ने इसे इस्तेमाल करने की सलाह दी थी.

गेब्रियल ने ऐसी लिनेन की परत का इस्तेमाल करने की पैरोकारी की, जिसमें सोखने की क्षमता हो. साथ ही साथ यह सिफलिस जैसी बीमारियों से भी बचाता हो. असुरक्षित यौन संक्रमण से सिफलिस होने का खतरा रहता है. इस स्थिति में पीडि़त का शरीर धब्बेदार होता जाता है और धीरे-धीरे गलने लगता है.

अरे अरे ! फराह खान किसे दे रही हैं कंडोम ले जाने की सलाह?

इसके करीब 40 साल बाद  कैथोलिक पादरी लियोनार्डस लेसिअस ने कंडोम के इस्तेमाल को वैध घोषित किया था. हालांकि उस दौर में कैथोलिक चर्चों ने उनकी बात को ज्यादा तवज्जो नहीं दी थी.

फिर साल 1600 में जानवरों की आँतों से कंडोम बनाया गया. जैसे आज आइकॉन है, वैसे ही तब जानवरों की आँत से बना कंडोम था. जितना भी उसे करो, न फटेगा न टूटेगा.

बात अगर कंडोम के पापा की हो तो वो थे चार्ल्स गुडवियर. उन्होंने ही रबर कंडोम का आविष्‍कार किया. पहला लेटेक्स कंडोम 1919 में बनाया गया. इसे फ्रेडरिक किलियन ने डिज़ाइन किया था.

कंडोम के धड़ाधड़ इस्तेमाल में सबसे आगे अमेरिकी आर्मी थी, जिसने 1931 में झूम का कंडोम उसे कर ग़दर काट दिया. यही वो दौर था, जब पहली बार कंडोम पर विज्ञापन बने.

आर्मी के बीच जो विज्ञापन प्रचलित था, उसकी लाइन कुछ ऐसी थी. ‘Don’t forget, put it on before you put it in.’

साल 1957 में ड्यूरेक्स कंपनी ने पहली बार लुब्रिकेटेड कंडोम इजाद किया. कच्ची सोच के कारण 1979 में कंडोम को ज़बरदस्त विरोध शुरू हो गया.

बॉलीवुड जलता है इस एक्टर से, क्योंकि हॉटेस्ट एक्ट्रेस है इसकी दीवानी

अमेरिकी कानून ने इसके विज्ञापनों पर रोक लगा दी. लेकिन कंडोम की घटती लोकप्रियता को जानलेवा बीमारी एड्स ने संजीवनी दी. एड्स बढ़ा तो इससे बचने के लिए कंडोम ही सबसे ज्यादा काम आये.

फिर ये ऐसे बीके कि सारे रिकॉर्ड टूट गए. 1990 तक इनका बाज़ार रंगीन हो गया. फ्लेवर्ड, रिब्ड और कलर्ड कंडोम बाज़ार में आ गए.

इतना ही नहीं, 91 में तो महिलाओं के लिए भी कंडोम आ गए. इसे फेमिडोम नाम दिया गया. ये दौर ऑनलाइन दुनिया की शुरुआत का था, तो ड्यूरेक्स ने 1997 में कंडोम पर वेबसाइट तक बना डाली. जो भी जानना है, यहाँ लोग आज भी जान सकते हैं.

ओरिगमी कंडोम यानि

वक़्त बदलता गया और आज तो ओरिगमी कंडोम बन रहे हैं.  कंडोम की इस नई नस्ल का इस्तेमाल भी नए तरीके से होता है. साल 2013 में दुनिया के सबसे अमीर लोगों ने एक  बिल गेट्स ने एक मिलियां डॉलर दान किये. इस पैसे से बेहद पतले और चमड़ी के रंग वाले कंडोम बनते हैं.

स्मार्ट कंडोम

46 हज़ार रुपए का कंडोम

अब सबसे महंगे आदमी की बात हुई है तो सबसे महंगे कंडोम की बात भी कर लें. दुनिया का सबसे महंगा कंडोम साल 2015 के अंत में बिका. इस एक पीस की कीमत 46 हज़ार रुपए थी. 200 साल पुराना ये कंडोम भेड़ और सुअर की आँतों से बनाया गया था. फ्रांस में मिला ये कंडोम 19 इंच का था.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...