घूमने का मन किसे नहीं करता. ऑफिस के काम से दिनभर थके-हारे आने के बाद मन करता है कि कुछ दिनों के लिए कहीं चले जाएं. काम और बाकी चीज़ों से दूर किसी ऐसी जगह को एक्स्प्लोर किया जाए, जहाँ घूमने का अलग ही मज़ा हो. अपने ट्रेवल प्लान को लेकर आप बहुत उत्साहित हैं और कई सारी तैयारियां भी कर रखी हैं.

किसी भी नयी जगह जाने से पहले ज़ाहिर है आपने उस जगह के बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले ली होगी. वहां पर क्या फेमस है, कहाँ रहना चाहिए, लो बजट में कौन सा होटल सुटेबल है, वगैरह-वगैरह.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


ट्रेवल प्लान के लिए सबसे ज्यादा ज़रूरी होती है बजट प्लानिंग. अगर पॉकेट टाइट है, तो आसानी से घूमने का मज़ा लिया जा सकता है. लेकिन अगर लो बजट है, तो घूमने का मज़ा लेने के लिए प्रॉपर प्लानिंग और रहने के लिए अच्छा ठिकाना ढूंढना मुश्किल होता है. इसलिए हम बता रहे हैं आपको कुछ ऐसी बातें जो आपके ट्रेवल प्लान को आसान, सस्ता और टिकाऊ बना सकती हैं.

कांस की ब्यूटी अब फन्ने खां पर उतरेगी, अपोजिट होंगे राम के लखन

  • होटल में रुकने की बजाय हॉस्टल या गेस्ट हाउस में रुकें. बजट के हिसाब से यहाँ रुकना बेस्ट होगा.
  • जिस भी शहर आपको जाना हो, वहां के लोकल ड्राइवर्स या ऑटो वालों को अपना बजट बताकर उसी हिसाब से वैसी जगह ले जाने के लिए कहें, जहाँ आप स्टे कर सकें.
  • अगर मैप होने के बाद भी डायरेक्शन न समझ आए, तो आसपास के किसी रेस्टोरेंट या वहां मौजूद लोकल शॉपकीपर्स से डायरेक्शन पूछ-पूछ कर जाएं.
  • कहीं जाना हो और ये न पता हो कि वहां कैसे जाना है, तो सिम्पली स्टेशन या लोकल बस स्पॉट पर चले जाएं. वहां एनक्वायरी करने पर पता लग जाएगा कि कौन सी बस या ट्रेन कब आ रही है.
  • कहीं भी घूमने जा रहे हों, और बिना उस जगह की नॉलेज लिए आ गए, तो क्या ख़ाक वहां घूमा. जितना हो सके अपने आसपास के लोगों से उस जगह की इनफार्मेशन लें. आपको जितनी जानकारी होगी उतना अच्छा है. इसमें किसी भी जगह की हिस्ट्री या वहां की क्या मान्यता है, ये जान सकते हैं. साथ ही यहाँ क्या फेमस है और लोगों को यहाँ क्यों आना चाहिए, ये सारी बातों की जानकारी भी होनी चाहिए.
  • जितना हो सके उस जगह के बारे में रिसर्च करें. जितनी ज्यादा नॉलेज होगी, आपके लिए उतना ही अच्छा.
  • नयी जगह पर वहां के फेमस फूड्स खाना भला किसे नहीं पसंद आएगा. लेकिन सिर्फ रिच फूड्स ही नहीं, बल्कि कुछ लोकल या नार्मल फूड्स का भी मज़ा लीजिये. साथ ही ये पता लगाइए कि वहां वो कौन सी चीज़ें मिलती हैं, जो आपके देश में नहीं मिलतीं.
  • नयी लैंग्वेज को भी सीखें. वहां के लोगों से उन्ही की लैंग्वेज में बात करने से आपका अच्छा इम्पैक्ट उनपर पड़ता है. इससे एक तो बात करने में आसानी भी होती है, और साथ ही उन्हें आप समझदार भी लगेंगे.
  • किसी भी हिस्टॉरिपकल या दर्शनीय जगह पर जाएं, तो वहां के मॉनयूमेंट्स, स्ट्रीट्स या टेम्पल पर कोई भी बचकानी हरकत न करें.
  • नयी जगह पर शॉपिंग करने का मतलब है वहां से वो चीज़ें खरीदना जो आपके यहाँ न मिलती हों. वर्ना अगर वही चीज़ खरीदनी हो, तो वो पैसों की बर्बादी है.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...