इन दिनों कुछ गजब मामले बहुत से देखने में आ रहे हैं. मामला सोनू निगम के अज़ान विवाद का था लोगों ने सोनू सूद को लपेटना शुरू कर दिया. इसी तरह का दूसरा मामला स्नैपचैट का था, लोगों का गुस्सा उस पर फूटना चाहिए था, लेकिन एक जैसे नाम होने की वजह से लोगों ने स्नैपडील की बैंड बजा दी.

ये तो ओशो ने लगा दी थी वाट, वरना विनोद खन्ना होते अमिताभ के भी बाप

हाल ही में अनिल कुंबले की ज़हीर खान को एंगेजमेंट की बधाई भी कुछ इसी तरह हो गयी, जिसमें उन्होंने सागरिका घटगे की बजाय सागरिका घोष को जोड़ दिया था.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


हालिया मामला विनोद खन्ना से जुड़ा है. एक तरह के नाम होने की बजाय लोगों ने विनोद खन्ना की बजाय विनोद कांबली को श्रंद्धांजलि अर्पित करना शुरू कर दिया.

विनोद कांबली की स्थिति का अंदाजा तो लगा पाना भी मुश्किल है. उन्होंने ट्वीट के ज़रिये अपना गुस्सा भी व्यक्त किया.

महबूबा मौत ‘श्याम’ को ले गई अपने साथ

कुछ लोगों को ब्लाक किया. लेकिन भाई मेरे, ब्लॉक करने से ही अगर कुछ सॉल्व हो जाता तो फिर कांबली परेशान क्यों होते.

लोगों ने जो ट्विटर पर किया उसका एक बार आप भी नज़ारा कर लें.

सृजन अग्रवाल के ट्विटर हैंडल ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर दी.

आकाश कृष्णा ने तो सबको 2 मिनट का मौन भी रखवा दिया.

फिरकी नाम के ट्विटर हैंडल ने बता दिया महान क्रिकेटर थे विनोद कांबली.

कलीम के हैंडल ने उनके चमकते चाँद को अपने फ्यूचर से ज़्यादा चमकदार बता दिया.

आखिरकार चीकू बाबा को अपनी गलती का एहसास भी हुआ, ऐसे में उसने दूसरे ट्विटर हैंडल धारा से ब्लॉक किये जाने का दुखड़ा कह सुनाया.

लेकिन अब क्या हो सकता था. तीर कमान से लौटने का बाद कब लौटा है जो अब लौटता.

आलिम हाकिम को भूल तो नहीं गए, कई बड़ी हस्तियां इनके सामने हो जाती हैं नतमस्तक

वैसे कांबली बाबू आप बुरा मत मानो. वैसे भी लोगों की गलती है. आप तो माशा अल्लाह सही सलामत हैं. अच्छा आपके लिए फायदेमंद बात बता दें. बड़े बुज़ुर्ग कहते हैं ऐसी अफवाह उड़ने से उम्र बढ़ जाती है.

फिर भी अगर बुरा लग रहा हो तो रोकेंगे नहीं हम आपको. पानी पियो और ऐसे लोगों को गरियाना शुरू करो. स्टार्ट नाउ.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...