गुजरात विधानसभा चुनाव में दूसरे चरण की वोटिंग से पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का पदभार बढ़ गया। अब वह कांग्रेस अध्यक्ष बन गए हैं। कांग्रेस नेता एम रामचंद्रन ने इसका औपचारिक रूप से ऐलान भी कर दिया है। वह नेहरू-गांधी परिवार के छठे कांग्रेस अध्यक्ष हैं।

नामांकन वापसी का था आखिरी दिन

बताते चलें कि सोमवार तक कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन वापस लिए जा सकते थे। केवल राहुल के नामांकन दाखिल करने से वह निर्विरोध चुन लिए गए। राहुल की ताजपोशी पर दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय के बाहर पार्टी कार्यकर्ताओं ने पटाखे फोड़े।

निर्विरोध पार्टी अध्यक्ष चुने जाने का ऐलान

इससे पहले दोपहर में कांग्रेस के सेंट्रल इलेक्शन अथॉरिटी के चेयरमैन एम रामचंद्रन, सदस्य मधुसूदन मिस्त्री और भुवनेश्वर कालिता ने राहुल को निर्विरोध पार्टी का अध्यक्ष चुने जाने का ऐलान किया।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


राहुल गाँधी पर पीएम मोदी का सबसे बड़ा हमला, बोले- कांग्रेस को औरंगजेब मुबारक

चार दिसंबर को किया था नामांकन

रामचंद्रन ने बताया कि नामांकन के दौरान राहुल गांधी की ओर से दाखिल किए गए सभी 89 सेट सही पाए गए। राहुल ने चार दिसंबर को अध्यक्ष पद के लिए नामांकन किया था।

पार्टी के नेताओं से करेंगे खुलकर चर्चा

अब राहुल गांधी 17 दिसंबर को सभी कांग्रेस नेताओं और कांग्रेस सांसदों के लिए डिनर का आयोजन करेंगे। इससे साफ है कि अध्यक्ष पद संभालने से पहले राहुल सभी नेताओं से खुल कर चर्चा करना चाहते हैं।

गुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन जाएंगे राहुल गांधी

ये भी रह चुके हैं कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी से पहले मोतीलाल नेहरू, जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और सोनिया गांधी के हाथों में पार्टी की कमान रही है। राहुल की ताजपोशी के साथ ही 19 साल से इस पद पर मौजूद सोनिया गांधी जिम्मेदारी से मुक्त हो गई हैं।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...