वक़्त गुजरते देर नहीं लगता. एक समय 2012 में दिल्ली में घटी गैंगरेप एक घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था. वहीँ आज का वक़्त है जहाँ उस पीड़िता की माँ ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का शुक्रिया अदा किया है. राहुल गांधी का शुक्रिया अदा करते हुए दिल्ली गैंगरेप पीड़िता निर्भया की माँ ने कहा है कि, अब उनके बेटे ने उड़ना सीख लिया है.’

निर्भया के दोषियों के लिए फांसी का फंदा तैयार, अब सिर्फ तारीख का है इन्तजार

निर्भया की माँ ने कहा शुक्रिया

निर्भया की माँ


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


दरअसल 2012 के उस दर्दनाक दिल्ली गैंगरेप को निर्भया काण्ड के नाम से जाना जाता है. निर्भया की मौत से जहां पूरा देश सदमें में था तो ऐसे में उसके परिवार की हालत का अंदाजा लगा पाना भी मुश्किल है. ऐसे समय में निर्भया के भाई को राहुल गांधी ने मिलकर काफी मोटीवेट किया था.

इंडिया टुडे के अनुसार निर्भया की माँ बताती हैं कि,’उस समय उनका बेटा 12वीं क्लास में था. इसके आगे वह मिलिट्री ज्वाइन करना चाहता था. लेकिन इस दर्दनाक घटना के बाद वह मानसिक रूप से टूट गया था. ऐसे में राहुल गांधी ने न सिर्फ उनके बेटे को हायर एजुकेशन के लिए स्पांसर किया, बल्कि हर दिन उससे फोन पर बात करके उसे काफी मोटीवेट किया. उसी का परिणाम है कि आज उनका बेटा पायलट बन गया है.’

सिर्फ राम रहीम नहीं, ये पांच बाबा भी रंगीन मिजाज

निर्भया की माँ आशा देवी बताती हैं कि, ‘2013 में सीबीएसई बोर्ड से 12वीं करने के बाद उनके बेटे का एडमिशन रायबरेली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान एकेडमी में हुआ था. एडमिशन के वक़्त उनका बेटा पूरी तरह से अपना माइंड मेक अप कर चुका था कि वह आर्मी में रिक्रूटमेंट की तैयारी करेगा. लेकिन पढ़ाई के दौरान उसे महसूस हुआ कि ये काफी कठिन है. इसलिए वह इसके समानांतर दूसरी तैयारी पर भी करता रहा. फिलहाल निर्भया का भाई अपनी पायलट की पढ़ाई पूरी करने के बाद ट्रेनिंग के लिए एक कॉमर्शियल एयरलाइन के साथ गुरुग्राम में है.’

निर्भया का छोटा भाई पुणे में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है. निर्भया के पिटा दिल्ली एयरपोर्ट टर्मिनल 3 पर कर्मचारी हैं. दिल्ली महिला आयोग ने हाल ही में तिहाड़ जेल और दक्षिण दिल्ली के डिप्टी कमिश्नर से नोटिस जारी कर सवाल पूछा है कि,’अदालत के आदेश के बावजूद निर्भया के दोषियों को फांसी देने में देरी क्यों की जा रही है.’

निर्भया के दोषियों को पकड़ लिया गया था और कोर्ट ने उन पर सेक्सुअल असाल्ट और मर्डर के तहत फैसला सुनाते हुए दोषी करार दिया था. दोषियों में से एक की मौत पुलिस कस्टडी में हो गई थी. इसके अलावा चार लोगों को इस मामले में अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी, वहीँ एक को तीन साल के लिए बाल सुधार गृह भेज दिया गया था.

ये भी देखें:

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...