नरेंद्र मोदी सरकार की सख्त विदेश नीति अब विदेश में भी चर्चा का विषय है। अमरीकी संसद के सामने विदेश नीति खासकर चीनी मामलों पर नजर रखने वाले एक बड़े थिंक टैंक ने कहा है कि जिस चीन के सामने अमरीका भी चुप है, उसके खिलाफ मोदी मुखर हैं।

डोकलाम में भी मोदी ने दिखाई सख्ती

थिंक टैंक ने कहा है कि चीन के वन बेल्ट वन रोड परियोजना के खिलाफ सिर्फ मोदी ही खड़े हुए। यही नहीं, हाल ही में चीन के साथ डोकलाम में भी मोदी सरकार ने सख्त रुख दिखाया और 73 दिन तक सैनिकों के आमने-सामने खड़े रहने के बाद शांतिपूर्वक दोनों सेनाएं पीछे हट गईं।

चीन की चालों का जवाब देंगे इंडियन नेवी के 111 नए हेलीकॉप्टर


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


अमरीकी थिंक टैंक ने कहीं कई बातें

अमरीका के प्रतिष्ठित थिंक-टैंक हडसन इंस्टीट्यूट के सेंटर ऑन चाइनीज स्ट्रैटिजी के डायरेक्टर माइकल पिल्स्बरी ने अमरीकी सांसदों के सामने चीन की चीन पर नीति और भारत की भूमिका के बारे में कई अहम बातें कहीं।

ट्रंप ने भी भारत से साझेदारी को बताया अहम

बताते चलें कि यह बयान अमरीका के 700 बिलियन डॉलर के रक्षा बजट और उसमें भारत को बड़े रक्षा साझेदार के रूप में मान्यता देने की खबरों के बीच आई है। हाल ही में मनीला में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पीएम मोदी ने आपसी साझेदारी को एशिया के लिए अहम बताया था।

चीन ने दुनियाभर के नेताओं को दी धमकी, दलाई लामा से मिले तो खैर नहीं

हाल के दिनों तक अमरीका भी साधे रहा चुप्पी

पिल्स्बरी ने कहा कि हाल तक अमरीका भी चीन के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट पर चुप्पी साधे रहा। वहीं, मोदी और उनकी टीम चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के खिलाफ काफी मुखर रही है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...