अमरीकी चुनाव में रूसी हस्तक्षेप पर फेसबुक के एक बड़े खुलासे ने मुहर सी लगा दी है। फेसबुक ने कहा है कि पिछले साल हुए अमरीका के राष्ट्रपति के चुनाव से पहले और बाद में रूस से जुड़ी एजेंसी ने 80 हजार पोस्ट जारी की थी।

बड़ी संख्या में अमरीकियों ने शेयर की पोस्ट

सोशल नेटवर्किंग साइट ने कहा है कि इस दौरान करीब 12 करोड़ 60 लाख अमरीकियों ने इस पोस्ट को देखा और साझा किया। रूस द्वारा अमरीकी चुनाव को प्रभावित करने वाले आरोपों की जांच के बीच अमेरिकी विधि निर्माताओं के सामने फेसबुक के इस खुलासे ने चौंका दिया।

अमरीका के अरबपतियों की सूची में ट्रंप ने नीचे की ओर लगाई छलांग


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


रूस लगातार करता रहा है इनकार

रूस ऐसी किसी भी स्थिति से इनकार करता रहा है तो अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के विरोधी लगातार मामले की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं। इस बीच, फेसबुक के महाधिवक्ता कोलिन स्ट्रेच ने रूसी एजेंसी के पोस्ट के डाटा का उल्लेख करते हुए यह सूचना दी है।

अलग-अलग मुद्दों पर 80 हजार पोस्ट

कोलिन स्ट्रेच ने बताया कि जून 2015 से अगस्त 2017 के बीच रूसी इंटरनेट रिसर्च एजेंसी ने करीब 80 हजार पोस्ट जारी कीं। इसमें से अधिकतर सामाजिक और राजनीतिक विभाजन पर थीं, जिनमें नस्लीय मुद्दों पर भी टिप्पणी की गई थी।

रूस ने यह क्या कह दिया, स्कूली बच्चों की तरह लड़ रहे ट्रंप-किम

फर्जी अकाउंट्स का किया गया इस्तेमाल

उन्होंने यह भी खुलासा किया कि इनमें से अधिकतर पोस्ट जारी करने के लिए फेक अकाउंट्स का इस्तेमाल किया गया था। फेसबुक ने बताया कि उसने 170 इंस्टाग्राम अकाउंट्स को भी डिलीट किया है, जिससे 1.20 लाख पोस्ट किए गए थे।

गूगल और टि्वटर ने भी दी थी जानकारी

यह भी बताते चलें कि गूगल ने हाल में इस बात के पक्के सबूत पेश किए थे कि एक रूसी एजेंट ने अमरीकी चुनाव को प्रभावित करने के लिए 10 हजार डॉलर का विज्ञापन दिया था। ट्विटर ने भी माना था कि उसने रूसी एजेंसी की पोस्ट को दिखाने वाले 2752 अकाउंट्स बंद किए थे।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...