विश्व बैंक की सीईओ क्रिस्टालिना जियार्जिएवा ने आर्थिक सुधारों को लेकर मोदी सरकार की प्रशंसा की है. नई दिल्ली आईं क्रिस्टालिना जियार्जिएवा ने कहा कि जीएसटी जैसे सुधारों की राह में धैर्य का फल मिलता है, हम जो देख रहे हैं वह भारत की असाधारण उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि विश्वबैंक की कारोबार सुगमता रिपोर्ट में भारत की 30 स्थान की छलांग लगाना विरला उदाहरण है. विश्व बैंक पिछले 15 सालों से कारोबार में आसानी के लिए उठाए गए कदमों के आधार पर यह सर्वे करा रहा है. भारत की रैंकिंग 2016 के मुकाबले 2017 में 130 से 100 पर पहुंची है.

शाह के बाद राहुल ने खोली डोवल के ‘शौर्य’ की पोल, बैकफुट पर भाजपा

क्रिस्टालिना जियार्जिएवा


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रलय द्वारा आयोजित इंडियाज बिजनेस रिफार्म कार्यक्रम में क्रिस्टालिना ने कहा कि सुधारों की प्राथमिकता बनाए रखना जरूरी है. जीएसटी और अन्य सुधारों के जरिये भारत 30 साल में शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं में शामिल होगा. पिछले तीन दशक में किए गए सुधारों से भारत में प्रति व्यक्ति आय चार गुना हो गई है, यह असाधारण उपलब्धि है.

उन्होंने याद दिलाया कि आर्थिक सुधारों को लेकर अडिग रहना जरूरी है और आज की कामयाबी भविष्य में और सुधारों के लिए ऊर्जा का काम करेगी. विश्व बैंक की सीईओ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुधारों को आगे ले जाने को लेकर प्रशंसा की.

क्रिस्टालिना ने कहा कि ऐसे प्रबल संकेत हैं कि भारत में अत्यंत गरीबी अब नहीं रहेगी. वर्ष 2026 तक अत्यंत निर्धनता को खत्म करने का लक्ष्य पाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि वह जानती हैं कि प्रधानमंत्री इस लक्ष्य को 2022 तक पाना चाहते हैं, उनके ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए ऐसा करना असंभव भी नहीं होगा.

मॉडल और एक्टर गौहर खान पेश करेंगी खुद का फैशन स्टोर

विश्व बैंक की सीईओ क्रिस्टालिना जियार्जिएवा का कहना है, उन्हें कोई संदेह नहीं है कि जब 2047 में आजादी के सौ साल पूरे होंगे तो हमें नया भारत देखने को मिलेगा. तब भारत के ज्यादातर लोग वैश्विक मध्यम वर्ग का हिस्सा होंगे. भारत एक उच्च मध्यम आय वाला देश होगा.

ये भी देखें:

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...