खुदरा महंगाई दर आसमान पर पहुंच गई है। नवंबर के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले महीने खुदरा महंगाई 4.88 फीसदी रही। यह 13 महीने में सबसे ज्यादा है, जबकि अक्तूबर में खुदरा महंगाई 3.5 फीसदी थी।

खाद्य पदार्थ व तेल की कीमतों ने बढ़ाई महंगाई

खाने-पीने के सामान और तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण यह महंगाई देखने को मिल रही है। सितंबर में महंगाई दर 3.28 फीसदी और अगस्त में 3.36 फीसदी दर्ज की गई थी। वहीं नवंबर में खाद्य महंगाई 4.42 फीसदी दर्ज की गई जो अक्तूबर में 1.90 फीसदी थी।

तुम नहीं समझोगे बाबू कितनी महंगाई है, एक बोतल 39 लाख रुपये में


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


ग्रामीण महंगाई दर में भी उछाल नजर आई

हद तो इस बात की है कि इस दौरान ग्रामीण महंगाई दर में भी उछाल नजर आई। यह अक्तूबर में जहां 3.36 फीसदी थी, वहीं नवंबर में 4.79 फीसदी हो गई। शहरी महंगाई दर अक्तूबर के 3.81 प्रतिशत के मुकाबले नवंबर में 4.9 फीसदी रही।

मोदी सरकार ने चुपके से लगाई आपके किचन में महंगाई की आग

औद्योगिक उत्पादन में आ गई गिरावट

इस बीच एक और चिंता की बात है देश के औद्योगिक उत्पादन में गिरावट। भारत का औद्योगिक उत्पादन अक्तूबर में घटकर 2.22 फीसदी पर आ गया, जबकि सितंबर में यह 4.1 फीसदी दर्ज किया गया था।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...