बेल्जियम की एक कोर्ट ने 156 मिलियन डॉलर यानी 1000 करोड़ रुपये का फेसबुक पर जुर्माना लगाया है. कोर्ट ने साफ़ कह दिया कि फेसबुक पहले की तरह अगर लगातार प्राइवेसी कानून का उल्लंघन करके थर्ड पार्टी वेबसाइट ट्रैक करता रहा, तो उसे हर दिन जुर्माना देना पड़ेगा. दरअसल, बेल्जियन कोर्ट ने फेसबुक से यूजर्स का डेटा कलेक्ट करने से मना किया है. इसके अलावा हर दिन 2 लाख 50 हजार यूरो जुर्माना देने को भी कहा है.

1000 करोड़ रुपये का फेसबुक पर जुर्माना

कोर्ट ने कहा, ‘फेसबुक हमें पूरा यूजर डेटा कलेक्ट करने के बारे में अधूरी जानकारी देता है. इसके अलावा फेसबुक यह भी नहीं बताता है कि वो किस तरह का डेटा कलेक्ट करता है और उस डेटा का करता क्या किया है. इसके अलावा ये भी कि उस डेटा को कितने दिनों के लिए स्टोर किया जाता है.’


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


कोर्ट के यहाँ तक टिप्पणी की कि यूजर्स की जानकारी स्टोर करने के लिए फेसबुक यूजर्स की मर्जी की भी कोई परवाह नहीं करता है.

ध्यान देने वाली बात है कि फेसबुक, विज्ञापन और यूजर एक्सपीरिएंस को बेहतर करने के लिए दूसरी वेबसाइट से भी यूजर डेटा ट्रैक करता है. इनमें फेसबुक के प्लग इन्स दिए गए होते हैं.

फिलहाल कोर्ट ने फेसबुक को आदेश दिया है कि अवैध तरीके से बेल्जियम नागरिकों का जितना भी डेटा स्टोर किया गया है उसे डिलीट किया जाए. इनमें उन लोगों का भी डेटा शामिल है जो सोशल नेटवर्क यूज ही नहीं करते.

रिचर्ड ऐलेन, जो कि फेसबुक पब्लिक पॉलिसी के वाइस प्रेसिडेंट हैं उनका कहना है कि कंपनी कोर्ट के इस फैसले से निराश है और अपील करेगी. फेसबुक के अनुसार कुकीज और पिक्सल कंपनी यूज करती है जोकि इंडस्ट्री स्टैंडर्ड टेक्नलॉलॉजी के होते हैं. इससे लाखों बिजनेस आगे बढ़ने में मदद मिलती है.

कोर्ट का यह फैसला काफी लंबे समय तक बेल्जियन कमिशन फॉर द प्रोटेक्शन प्राइवेसी और फेसबुक के बीच चले आ रहे विवाद के बाद आया है.

ये भी देखें:

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...