कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अपने करीब 5 करोड़ अंशधारकों के लिये 2017-18 को लेकर भविष्य निधि पर ब्याज दर 8.65 प्रतिशत ही रख सकता है. न्यासी बोर्ड की बैठक 21 फरवरी 2018 को होने वाली है. ईपीएफओ ने चालू वित्त वर्ष के लिए ब्याज दर 8.65 प्रतिशत बनाये रखने के लिये अंतर को पूरा करने को लेकर इस महीने की शुरुआत में 2,886 करोड़ रुपये मूल्य के एक्सचेंज ट्रेडेड फंड बेच चुका है. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने 2016-17 के लिये 8.65 प्रतिशत ब्याज दर की घोषणा की थी. यह 2015-16 में यह 8.8 प्रतिशत थी.

ईपीएफओ

सूत्रों ने कहा कि ईपीएफओ ने 1,054 करोड़ रुपये पर 16 प्रतिशत रिटर्न कमाया है. यह चालू वित्त वर्ष के लिये अंशधारकों को 8.65 प्रतिशत ब्याज देने के लिये पर्याप्त है. चालू वित्त वर्ष के लिये आय अनुमान को न्यासियों के एजेंडे में वितरित नहीं किया गया है और इसे बैठक के दौरान रखा जाएगा.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


एसबीआई ने थोक जमा पर ब्याज दरें बढ़ाईं

उसने कहा कि ईपीएफओ द्वारा चालू वित्त वर्ष के लिये आय अनुमान के बाद ईटीएफ बेचने का फैसला किया गया. ईपीएफओ अगस्त 2015 से ईटीएफ में निवेश कर रहा है और अब तक ईटीएफ निवेश का लाभ नहीं उठाया. ईपीएफओ ने अब तक ईटीएफ में 44,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

न्यासियों की बैठक के एजेंडे में चालू वित्त वर्ष के लिये ईपीएफ जमा पर ब्याज दर निर्धारण का प्रस्ताव भी शामिल हैं.

ये भी देखिए…

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...