आपको भी यकीन नहीं होगा कि चंद सालों में कोई इंसान भला कितना बदल सकता है। इतना ज्‍यादा कि आप उसकी असलियत को भी पहचानने से इंकार कर दें। वैसे इन्‍हें देखकर आपको ऐसा ही कुछ लगेगा। ये हैं एक्‍टर विजय आनंद। वही विजय, जो फिल्‍म ‘प्‍यार तो होना ही था’ में काजोल के हैंडसम ब्‍वॉयफ्रेंड के रूप में नजर आए थे। आइए, दिखाएं आपको इनके लुक्‍स में आए बदलाव को।

ऐसी है खबर
खबर है कि 1998 में रिलीज हुई फिल्‍म ‘प्यार तो होना ही था’ में एक्‍ट्रेस काजोल के मंगेतर राहुल के किरदार में दिखाई दिए विजय आनंद का लुक अब पूरी तरह से बदल चुका है। वैसे आपको बता दें कि अब वह एक्टर कम कुंडलिनी योग गुरु ज्यादा हो गए हैं।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


ले लिया संन्‍यास
बता दें कि ‘प्यार तो होना ही था’ के बाद बिजय ने एक्टिंग की दुनिया से पूरी तरह से संन्यास ले लिया था। इसके बावजूद 2015 में वह टीवी सीरियल ‘सिया के राम’ में राजा जनक का किरदार निभाते भी नजर आए थे।

पढ़ें इसे भी : शादी के सवाल पर करिश्‍मा की मैनेजर ने दिया झन्‍नाटेदार जवाब

17 साल बीत गए इस काम में
इसके बीच के 17 साल उन्होंने कुंडलिनी योग सीखने और फिर इसे दूसरे लोगों को सिखाने में लगाए दिए। वैसे एक इंटरव्‍यू में विजय ने बताया था कि फिल्मों में मुकाम बनाने के लिए उन्हें बेहद कड़ा संघर्ष करना पड़ा था, लेकिन जब फिल्‍म ‘प्यार तो होना ही था’ हिट हुई, तो उन्हें एक साथ 22 फिल्मों के ऑफर मिले। ये वाकई उनके लिए एक चौंकाने वाला मौका था।

ऐसा कर लिया था फैसला
हालांकि तब तक विजय इंडस्ट्री छोड़ने का मन पूरी तरह से बना चुके थे। बकौल बिजय, ‘मैंने गरीबी और संघर्ष सब कुछ देखा है और मैं हमेशा से एक्टर बनना चाहता था, लेकिन बाद में मुझे अहसास हुआ कि इन सबका कोई मतलब नहीं।‘

घेर लिया बीमारियों ने
विजय के मुताबिक उन्हें यह अहसास तब हुआ जब उन्होंने योग कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेना शुरू कर दिया। वे कहते हैं, ‘मेरी बॉडी स्टिफ थी। मुझे लगा कि योग इसे फ्लेग्जिबल करने में मेरी मदद करेगा। सिर्फ 36 साल की उम्र में मुझे आर्थराइटिस हो गया। कॉलेस्ट्रोल हाई पाया गया, तब मुझे कुंडलिनी योग के बारे में पता चला। अगर आपकी आत्मा खुश नहीं है तो शरीर बीमारियों से घिर जाता है।‘

पढ़ें इसे भी : लो, अब नवाजुद्दीन की पूर्व गर्लफ्रेंड ने उनके सिर पर तोड़ा मुसीबतों का पहाड़  

छोटे पर्दे से की थी शुरुआत
वैसे बताते चलें कि विजय ने अपने कॅरियर की शुरुआत छोटे पर्दे से की थी। इन्‍होंने ‘आसमान से आगे’ (1994), ‘ख़ुशी’ (1995), ‘औरत’ (2001) और ‘सिया के राम’ (2015-16) जैसे धारावाहिकों में काम किया। इसके अलावा विजय ने 1996 में फिल्‍म ‘यश’ और 1998 में ‘प्यार तो होना ही था’ में भी काम किया। वहीं अब वह कुछ बदले हुए अंदाज में लोगों को योग सिखाते नजर आ रहे हैं।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...