सेंसर बोर्ड ने भले ही संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को बिना किसी कट के यू/ए सर्टिफिकेट देने का फैसला किया है, पर फिल्म का नाम बदलकर पद्मावत करने के साथ ही चार और बदलाव करने का भी सुझाव दिया है। वहीं, 26 कट लगाने की खबरों को खारिज कर दिया।

28 दिसंबर को बोर्ड ने की थी बैठक

सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने कहा कि फिल्म के निर्माता एवं निर्देशक प्रस्तावित बदलावों से पूरी तरह से सहमत भी हैं। बोर्ड ने 28 दिसंबर को अपनी जांच समिति के साथ बैठक की थी और कुछ बदलावों के साथ फिल्म को यू/ए सर्टिफिकेट देने का फैसला किया।

फिल्म में बदलाव के लिए दिए सुझाव

फिल्म में बदलाव का पहला सुझाव तो यही है कि इसका नाम पद्मावत कर दिया जाए। इसके अलावा फिल्म में एक डिस्क्लेमर लगाया जाएगा कि फिल्म ऐतिहासिक तथ्यों की सत्यता का दावा नहीं करती है। घूमर गाने में दिखाए जा रहे किरदार को सही तरीके से पेश किया जाएगा।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


अरे बाप रे बाप! पद्मावती ने इस कंपनी के डुबा दिए 400 करोड़ रुपये

पद्मावती में ये बदलाव भी करने होंगे

यह भी कहा गया है कि फिल्म में दिखाए गए गलत और भ्रमित करने वाले ऐतिहासिक स्थलों में बदलाव किया जाए। साथ ही यह भी डिस्क्लेमर देने का कहा गया है कि यह किसी भी तरह से सती प्रथा का समर्थन या उसे महिमामंडित नहीं करती है।

विशेष समीक्षा समिति के साथ बैठक

बता दें कि फिल्म की संवेदनशीलता के मद्देनजर बोर्ड की समीक्षा समिति विशेष थी। समिति की बैठक में बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी, नियमित समीक्षा समिति के सदस्य और सेंसर बोर्ड के अधिकारी उपस्थित रहे।

लो जी! अब तो पद्मावती ने ले लिया फिरंगी को भी अपने लपेटे में

ये भी खासतौर पर शामिल थे बैठक में

इनके अलावा उदयपुर के राजघराने के अरविंद सिंह और जयपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर केके सिंह को भी समिति में शामिल किया गया था। इसकी सिफारिश खुद फिल्म के निर्माताओं ने बोर्ड से की थी।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...