खिचड़ी एक ऐसा व्यंजन है, जिसे दुनिया भर में खाया जाता है. कोई इसे पसंद करता है, कोई नापसंद. लेकिन इसे खाता हर कोई है. दुनिया भर में खिचड़ी बनाई और खाई जाती है. देश में तो इसे पूजा में भी चढ़ाया जाता है. हर साल मकर संक्रांति पर खिचड़ी मेला भी लगता है. यानी यह एक ऐसा भोजन है, जो परंपरा और सेहत, दोनों से जुड़ा है. इसी के मद्देनजर अब खिचड़ी को राष्ट्रीय पकवान घोषित करने की तैयारी शुरू हो गयी है. यह फैसला विश्व खाद्य दिवस (वर्ल्ड फूड डे) यानि 4 नवंबर को लिया जा सकता है.

दिल्ली में 3 से 5 नवंबर तक खाद्य दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. ये इंडिया गेट लॉन्स में होगा. इसमें 200 से ज्यादा विदेशी कंपनियां और 450 देसी कंपनियां हिस्सा ले रही हैं. इस कार्यक्रम का उद्घाटन उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू करेंगे.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


पुराने चेहरे, नया सीजन, खिचड़ी की नयी सीरीज में ऐसा होगा सबका लुक

इस इवेंट में दुनिया के टॉप शेफ्स मिलकर 800 किलो की खिचड़ी बनाएंगे. ऐसा करने के पीछे का कारण ये है कि ऑर्गानाइज़र्स चाहते हैं कि इतनी ज्यादा खिचड़ी बने कि इसे गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया जाए. इन शेफ में संजीव कपूर भी शामिल होंगे. ख़बरें हैं कि ये जो 800 किलो खिचड़ी 60 हज़ार अनाथ बच्चों और इवेंट में आये मेहमानों को खिलाई जायेगी.

खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर ने भी खिचड़ी को राष्ट्रीय पकवान के तौर पर पेश करने को कहा है. मंत्रालय का तर्क है कि चाहे अमीर हों या गरीब, खिचड़ी सबका पसंदीदा खाना है. खिचड़ी को व्यंजनों का राजा बताया गया है. इसमें चावल, दाल, हरी सब्जियां और सीमित मात्रा में मसाले रहते हैं, जिससे ये टेस्टी और हेल्दी होती है. खिचड़ी बहुत कम खर्च में और कम वक्त में बन जाती है.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...