आज के युवा अरेंज मैरिज की जगह लव मैरिज करना ज्यादा प्रिफर करते हैं. उन्हें लगता है अरेंज मैरिज एक बोरिंग मुद्दा है. लेकिन ऐसा कुछ नहीं है, ये महज़ गलतफहमी ही होती है. ये तो हम पर निर्भर करता है कि हम अपने रिलेशन को कैसे ख़ास बनाते हैं. हर किसी का अलग ही तरीका होता है ज़िन्दगी जीने का. कोई खुल कर लाइफ के हर एक पल को एन्जॉय करता है, तो किसी को गंभीरता में रहना ज्यादा पसंद होता है.

मैरिज तो मैरिज होती है. फिर चाहे वो अरेंज हो या लव. अपने रिश्ते को बस बखूबी निभाना आना चाहिए. हमारे पास हैं कुछ अमेजिंग टिप्स जिसे जानकर आप अपनी अरेंज मैरिज को रॉकिंग बना सकते हैं. यकीं मानिए ये टिप्स आपकी अरेंज मैरिज को लव मैरिज में बदल देंगे.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


अपने रिश्ते को समय दें

हर रिश्ते को समझने और उसे निभाने में वक़्त लगता है. अरेंज मैरिज में ज़ाहिर है आप एक-दूसरे को पहले से नहीं जानते. हाँ ये ही कि पहले की तुलना में अब शादी से पहले लड़के और लड़की के मिलने और बात करने पर रोक टोक नहीं लगाईं जाती है. लेकिन फिर भी किसी को जानने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए. पति-पत्नी की तरह बर्ताव करने की बजाय फ्रेंड्स बनकर रहे. इससे रिलेशन में स्मूदनेस भी बरकरार रहेगी और बोरिंग भी नहीं लगेगा.

पार्टनर को बदलने की कोशिश न करें

सबको मनचाहा पार्टनर मिले, ये कोई ज़रूरी नहीं. ऐसा भी नहीं है कि जिससे शादी हुई है, उसके बारे में आप पहले कुछ जानते नहीं थे. सारी बातें ओ अपने पार्टनर का नेचर ध्यान में रख कर ही तो आपने शादी के लिए हाँ किया होगा. तो फिर शादी के बाद अपने पार्टनर में बदलाव लाने जैसा कोई सवाल ही पैदा नहीं होता. आपका पार्टनर कोम्प्रोमाइज़ करे, ऐसा सोचने की बजाय उसे समझने की कोशिश करें. इससे आपके पार्टनर को भी अच्छा लगेगा और खुशनुमा माहौल भी बना रहेगा.

इज्ज़त करें

चाहे कितनी भी परेशानियां आएं, रिश्ते के हर पड़ाव पर अपने पार्टनर की इज्ज़त करें. दोस्तों के सामने मज़ाक में भी कभी अपने पार्टनर का मजाक न उडाएं. इससे सिर्फ दूरियां और गल्तफ़हमियाँ ही पनपती हैं.

रिलेटिव्स के साथ फ्रेंडली नेचर बनाएं

अक्सर ऐसा होता है कि लड़की को लड़के के कुछ रिश्तेदार पसंद नहीं आते. ये बात खासकर भाभी और नन्द के ऊपर ज्यादा अप्लाई होती है. रिश्तेदारों में नुक्स निकालने की बजाय उनके साथ फ्रेंडली नेचर बनाने की कोशिश करें. अगर उनकी कोई बात बुरी लगती है, तो लड़ झगड़ कर उस बात को कहने की बजाय सलीके से कह दें की आपको ऐसी बातें नहीं पसंद. अगर कभी आपसे ही कोई गल्ती हो जाए, तो मुंह बना कर घमंड दिखाने की जगह सॉरी बोलकर मैटर का वहीं दी एंड करें.

लव रिलेशन: प्यार में पड़ने से वजन होता है कम, बनी रहती है एक्टिवनेस

एक-दूसरे की तारीफ़ करें

कई ऐसे ओकेशंस सामने आते हैं, जब आप सज संवर कर बाहर जाते हैं. ऐसे में अपने पार्टनर की हमेशा तारीफ़ करें. लुक्स और स्टाइल स्टेटमेंट पर कमेंट करने की जगह उन्हें कॉम्प्लीमेंट दें. हाँ, अगर किसी चीज़ की कमी हो, या मेकअप ज्यादा हो गया हो, तो नॉर्मली अपनी बात को रखें. सिर्फ इसी मामले में नहीं, बल्कि हर मामले में अपनी बात को हमेशा ऐसे रखनी चाहिए कि सांप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे. इसका मतलब आपकी बात भी रह जाए और सामने वाले को बुरा भी न लगे.

फैसलों में शामिल करें पार्टनर की सलाह

आप जो भी फैसला लें, उसमें पार्टनर को भी शामिल करें. वो क्या सोचते हैं, ये जानना भी ज़रूरी है. अगर हर डिसिशन आप पार्टनर की सलाह मशवरा किये बिना ही लेंगे, तो उनके मन में आपके लिए दूरी पैदा हो जाएगी. साथ ही उन्हें ऐसा लगेगा कि उनकी आपकी ज़िन्दगी में ज्यादा एहमियत नहीं है. इसलिए किसी भी डिसिशन पर पहुँचने से पहले अपने पार्टनर के ओपिनियन को भी कंसीडर कर लें.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...