तौलिए के अधिकतर लोग इस्तेमाल करते हैं और रोजाना इस्तेमाल करते हैं. लेकिन लोगों का ध्यान इस ओर नहीं जाता है कई बीमारियां ऐसी होती है जिनका कारण सिर्फ और सिर्फ आपका तौलिया ही होता है. इन बीमारियों में अधिकतर त्वचा से संबंधित बीमारियां होती है. लेकिन लापरवाही वश इन बीमारियों के लिए हम अन्य चीजों को दोषी मान लेते हैं, जिसके कारण हम इन बीमारियों की असल जड़ तक नहीं पहुंच पाते हैं. तो आइए हम आपको बताते हैं कि किस प्रकार से आपका तौलिया आपके लिए हानिकारक हो सकता है. साथ ही तौलिए से जुड़ी समस्याओं से कैसे बचा जाए.

तौलिया आपके लिए हानिकारक

अक्सर हम लोग भागदौड़ भरी जिदंगी के कारण नहाने के बाद अपने तौलियों को सुखाना भूल जाते हैं और उन्हें ऐसे ही पड़ हुआ छोड़ देते हैं जिसके कारण उनमें बैक्टीरिया पनप जाते हैं. जोकि त्वचा से संबंधित बीमारियां पैदा कर सकते हैं. इसके अलावा कई घरों में नहाने के बाद एक ही टॉवेल का इस्तेमाल कई सदस्य करते हैं. इससे कई तरह की बीमारियां फैल सकती हैं या आपकी सेहत पर इसका बुरा असर पड़ सकता है.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


नहाने के समय भले आप एंटी जर्म साबुन का इस्तेमाल करें, इससे शरीर में बैक्टीरिया और कीटाणु पूरी तरह कभी नहीं खत्म होते. इसलिए जब आप टॉवेल से शरीर को पोंछते हैं, तो आपके शरीर से तमाम कीटाणु और बैक्टीरिया टॉवेल पर चिपक जाते हैं. इसकी वजह से आपको एक्ज़ीमा, फंगल इंफेक्शन, बैक्टीरियल इंफेक्शन और त्वचा संबंधी कई रोग हो सकते हैं. इसके अलावा गीले तौलिये में बैक्टीरिया तेजी से पनपते हैं जिससे त्वचा पर इंफेक्शन का खतरा कई गुना बढ़ जाता है. इसकी वजह स्किन रैशेज या खुजली जैसी समस्याएं हो जाती हैं.

हेल्थ टिप्स: कुर्सी पर ऐसे बैठ करें काम, तो नहीं होगा कोई नुकसान

तौलिए से संबंधित ये सावधानियां बरतकर आप खुद को बीमारियों से दूर रख सकते हैं-

अपने तौलिए को सप्ताह में कम से कम 2 बार अच्छे से धोना चाहिए.

गीले तौलिए का कभी भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

हमेशा साफ, धुला हुआ और धूप में सुखाया हुआ तौलिया ही प्रयोग करें. धूप में सुखाने से टॉवेल के कई बैक्टीरिया मर जाते हैं या निष्क्रिय हो जाते हैं.

नहाने के बाद शरीर पोंछने के लिए, टॉयलेट के बाद हाथ पोंछने के लिए, किचन में पानी पोंछने और धुलने के बाद मुंह पोंछने के लिए अलग-अलग टॉवेल का इस्तेमाल करें.

तौलिए को कभी भी अंडर गारमेंट्स के साथ न धोना चाहिए. क्योंकि इससे अंडर गारमेंट्स में मौजूद बैक्टीरिया टॉवेल में चले जाते हैं.

ये भी देखें:

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...