क्रिकेट के इतिहास में 15 नवंबर बेहद खास है, क्योंकि इसी दिन 1989 में 16 साल 205 दिन के एक लड़के ने कराची के नेशनल स्टेडियम में टेस्ट करियर की शुरुआत की थी। उस वक्त मुश्ताक मोहम्मद व आकिब जावेद के बाद सबसे कम उम्र में पहली पारी खेलने वाला टेस्ट क्रिकेटर था।

पाकिस्तान के खिलाफ खेला पहला मैच

आज वही लड़का क्रिकेट का भगवान कहा जाता है। जी हां, सचिन रमेश तेंदुलकर ने ठीक 28 साल पहले पाकिस्तान के खिलाफ अपने करियर का पहला इंटरनेशनल मैच खेला था। हालांकि, अब उन्होंने खुलासा किया है कि पहली पारी में हुई दिक्कतों से वह रो पड़े थे।

बाथरूम में गए और रोने लगे थे सचिन

सचिन ने पहली पारी में 15 रन बनाए थे। फेसबुक लाइव में सचिन ने कहा, जब मैं अपनी पहली पारी खेलकर ड्रेसिंग रूम में पहुंचा तो मुझे लगा कि रॉन्ग प्लेस पर मैं रॉन्ग टाइम आ गया। बहुत मुश्किल में था। बाथरूम में गया, रोने लगा।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


सचिन तेंदुलकर ने हाथ में थामी झाड़ू तो गदगद हो गए प्रधानमंत्री मोदी भी

सीनियर खिलाड़ियों ने किया प्रोत्साहित

वहां जो सीनियर खिलाड़ी थे, सबने मुझे समझाया। मुझे प्रोत्साहित किया। बताया कि मुझे क्या करना चाहिए। फिर अगले मैच में मुझे आत्मविश्वास मिला। सचिन ने बताया कि पाकिस्तान जाने से पहले उन्हें कोई जानकारी नहीं थी।

बॉलिंग अटैक के बारे में पता नहीं था

सचिन ने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि वहां कैसे मैच खेलना था। चयन से पहले उन्होंने ईरानी ट्रॉफी में 100 रन बनाए। इसके बाद टीम इंडिया में चुन लिए गए। फिर पाकिस्तान गया। वहां तगड़ा बॉलिंग अटैक, वहां क्या होगा मुझे कुछ नहीं पता था।

टेलीविज़न के महागुरु को कैंसर, सचिन भी करते हैं इनकी कद्र

मुश्किल से 15 रन बना पाए थे सचिन

सचिन ने बताया, वहां कुछ ओवर खेला तो पता चला कि अटैक इस तरह का होगा। उस वक्त इमरान खान, वसीम अकरम, वकार यूनुस जैसे तगड़े गेंदबाज थे। उनकी गेंद को फेस करना कठिन काम था। पहली पारी में मुश्किल से 15 रन बनाए थे।

दूसरी पारी में जड़ दिया था अर्धशतक

इसके बाद मैंने अपने करियर की दूसरी पारी में फिफ्टी लगाई। उस दौरान मुझे पता चला कि मैं ये कर सकता हूं। जब मैं दूसरी पारी खेलने गया तो मैंने तय रखा था कि मुझे स्कोर बोर्ड नहीं देखना है, मैं सिर्फ घड़ी देख रहा था। मैं सिर्फ वहां मैदान पर वक्त बिताना चाहता था।

फिर मिल गया आत्मविश्वास

दूसरी पारी में किसी भी कीमत पर मुझे वहां खड़ा रहना था। मुझे विश्वास हुआ कि मैं कर सकता हूं। फिर मैंने 59 रन बनाए। ये मेरी जिंदगी का टर्निंग प्वाइंट था। उन लोगों के सामने खेलने के बाद आनंद मिलेगा।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...