एशियाई मैराथन चैंपियनशिप में भारत के गोपी थोनाकल ने स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। वह पहले भारतीय पुरुष बन गए हैं, जिन्होंने यह पदक अपने नाम किया है। उन्होंने चीन के डोंगुआन में इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता का खिताब जीता।

दो घंटे और 15 मिनट में किया कमाल

गोपी थोनाकल ने दो घंटे 15 मिनट और 48 सेकेंड के समय के साथ स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। उनके बाद दूसरे स्थान पर उज्बेकिस्तान के आंद्रे पेत्रोव रहे। उन्होंने दो घंटे 15 मिनट और 51 सेकेंड के साथ रजत पदक अपनी झोली में डाला।

बोस्टन मैराथन के दौरान महिला होने के नाते कैथरीन को दे दिया था धक्का, 50 साल बाद पूरी की दौड़


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


एशियाई मैराथन चैंपियनशिप का गठन

मंगोलिया के ब्यमबालेव सीवेनरावदान दो घंटे 16 मिनट और 14 सेकेंड के समय से कांस्य पदक जीतने में सफल रहे। बताते चलें कि एशियाई मैराथन चैंपियनशिप के अलग से गठन के बाद गोपी यह खिताब जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष हैं।

विनीता-कौशिक हैं भारत के पहले आइरनमैन, बड़ी लंबी है इनके संघर्ष की दास्तां

आशा अग्रवाल भी जीत चुकी हैं महिला खिताब

इससे पहले आशा अग्रवाल ने महिला खिताब जीता था जब यह प्रतियोगिता प्रत्येक दो साल में होने वाली एशियाई ट्रैक एवं फील्ड चैंपियनशिप का हिस्सा थी। गोपी की जीत पर देश भर की हस्तियों ने खुशी जताई है और उन्हें बधाई दी है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...