रियो ओलंपिक्स में भारत की ओर से एकमात्र तैराक साजन प्रकाश को हिस्सा लेना है। पर उनके पास दुश्वारियां कम नहीं हैं। उन्हें ट्रेनिंग के लिए स्पेन जाना है, पर इसके लिए उनके पास पैसे नहीं हैं। ऐसे में उन्होंने अपने पदक बेचने की धमकी दी है।

राष्ट्रीय खेल में जीते छह पदक

तिरुवनंतपुरम में हुए राष्ट्रीय खेल में छह स्वर्ण और तीन रजत पदक जीतने वाले साजन प्रकाश के हवाले से एक अंग्रेजी अखबार ने यह जानकारी दी है। अखबार को प्रकाश ने बताया, अंतरराष्ट्रीय आयोजन में शामिल होने के लिए मिलने वाली आर्थिक मदद का मुझे अभी भी इंतजार है।

विनीता-कौशिक हैं भारत के पहले आइरनमैन, बड़ी लंबी है इनके संघर्ष की दास्तां


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


जेब से खर्च किए पैसे, अब औऱ नहीं

साजन प्रकाश ने कहा कि पिछले दो महीने में दुबई, थाईलैंड और सिंगापुर में आयोजित हुए विभिन्न खेलों में मैंने चार लाख रुपये से अधिक खर्च कर दिए। ये सभी पैसे मेरी जेब से गए हैं। अब और पैसे नहीं हैं, जिससे स्पेन में होने वाली ट्रेनिंग में हिस्सा ले सकें।

खिलाड़ियों की मदद पेपर तक ही

प्रकाश ने आरोप लगाया है कि अधिकारियों द्वारा खिलाडि़यों के लिए की जाने वाली तमाम मदद की बातें सिर्फ पेपर तक ही सीमित रह जाती हैं। प्रकाश ने आगे कहा कि हमें विदेशी खिलाड़ियों से टक्कर लेने के लिए अच्छी और बेहतर ट्रेनिंग की जरूरत होती है।

निक वुजिसिक ने बिना हाथ-पैर स्वीमिंग, सर्फिंग, स्काई डाइविंग कर बना ली पहचान

केंद्रीय मंत्री ने भी नहीं की मदद

प्रकाश ने यह भी दावा किया है कि उन्होंने केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से भी ट्वीट से आर्थिक मदद की अपील की पर कोई उत्तर नहीं आया। तैराक ने कहा कि यहां मैं कोई पैसे कमाने के लिए नहीं आया हूं। मैं अपने देश को गर्व महसूस कराना चाहता हूं।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...