2009 में एशिया कप टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में भारतीय महिला हॉकी टीम चीन से हार गई थी। अब जाकर भारतीय बेटियों बदला चुकाने का मौका मिला तो चीन को धुन डाला। टीम इंडिया ने शानदार प्रदर्शन करते हुए चीन को 5-4 से हराकर खिताब कब्जा लिया।

वर्ल्ड कप के लिए क्वालीफाई

यही नहीं इस जीत के साथ भारतीय टीम ने वर्ल्ड कप 2018 के लिए भी क्वॉलीफाइ कर लिया है। इस खिताबी मुकाबले का फैसला शूटआउट से हुआ। इससे पहले मैच का निर्धारित समय खत्म होने पर दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थीं। टूर्नामेंट में टीम इंडिया एक भी मैच नहीं हारी।

दूसरी बार खिताब पर कब्जा

बताते चलें कि भारतीय महिला टीम का यह दूसरा एशिया कप खिताब है। इससे पहले भारत ने 2004 में इस प्रतिष्ठित खिताब को अपने नाम किया था। तब इसने जापान को अपनी ही राजधानी दिल्ली में 1-0 से मात दी थी।

भारतीय जूनियर हॉकी टीम ने दिला दी मेजर ध्यानचंद की याद

दनादन खूब दागे गोल

इस बार के मैच की खासियत यह रही कि पूरे टूर्नामेंट के दौरान भारतीय महिला हॉकी टीम के खिलाफ सिर्फ आठ गोल किए जा सके। इस दौरान टीम इंडिया एक भी मैच नहीं हारी। वहीं, भारतीय महिला हॉकी टीम ने अपने छह मैचों के दौरान 32 गोल दनादन दागे।

क्रिकेट की हार का मातम क्यों, जब हॉकी में पाकिस्तान को धो डाला

महिला-पुरुष दोनों खिताब

यही नहीं, यह साल हॉकी इंडिया के लिए काफी अच्छा साबित हुआ। इससे पहले भारतीय पुरुष हॉकी टीम भी एशिया कप पर कब्जा जमा चुकी है। यानी एशिया कप हॉकी-2017 के पुरुष और महिला वर्ग के खिताब पर अब भारत का कब्जा है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...