इसमें कोई शक नहीं कि गुजरात भारत का सबसे विकसित राज्य है। हाल में गुजरात चुनाव पूरे हुए, जिसमें भाजपा ने पांचवीं बार सत्ता हासिल की। हालाँकि इस बार भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के सामने गुजरात का सीएम चुनने की चुनौती भी थी। दरअसल, भाजपा चुनाव में भले जीत गयी, लेकिन यह जीत उम्मीदों के मुताबिक नहीं रही। ऐसे में सीएम पद किसे दिया जाये, यह बड़ा सवाल था। लेकिन अब साफ़ है कि विजय रूपाणी पर पार्टी का भरोसा डिगा नहीं हैं। उन्होंने लगातार दूसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है। आइये जानते हैं कैसे गुजरात भाजपा का सामान्य कार्यकर्ता सीएम पद तक पहुंचा।

विजय रूपाणी का जीवन

विकसित राज्य

  • विजय रूपाणी का जन्म म्यांमार के रंगून शहर में हुआ। चार साल की उम्र में उनका परिवार राजकोट आ गया था।
    यहाँ विजय के पिता रमणिकलाल रूपाणी आरएसएस से जुड़े।
  • विजय रूपाणी भाजपा के बेहद पुराने नेताओं में हैं। साल 1976 में 24 साल की उम्र में रूपाणी इमरजेंसी के दौरान 11 महीने के लिए जेल भी जा चुके हैं।
    रूपाणी बहुत छोटी उम्र से आरएसएस और एबीवीपी से जुड़े थे। 1987 में ये राजकोट म्यूनिसिपल कॉर्पोरेटर और ड्रेनेज कमिटी के चेयरमैन बने।
  • फिर 1996 में विजय रूपाणी राजकोट के मेयर बने। साल 2006 में इनकी राज्यसभा में एंट्री हुई। विजय रूपाणी 7 अगस्त 2016 को पहली बार गुजरात के सीएम बने। भाजपा का इन पर जबरदस्त भरोसा ही है, जो उन्हें दूसरी बार सीएम पद दिया गया है।

विजय रूपाणी का परिवार


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


  • विजय रूपाणी खुले दिमाग के इंसान हैं। उन्होंने भाजपा नेता अंजलि से लव मैरिज की थी।
  • विजय रूपाणी की वाइफ भाजपा महिला विंग की जनरल सेक्रेटरी हैं। वो राजदीप एक्सपोर्ट्स नाम की कंपनी में पार्टनर हैं।
  • पेरेंट्स की तरह रूपाणी की बेटी राधिका ने कॉलेज फ्रेंड निमित मिश्रा से लव मैरिज की है। निमित सीए हैं और लंदन में बसे हैं। राधिका और निमित का शौर्य नाम का बेटा है।
  • विजय और अंजलि का बेटा रुषभ रूपाणी मैकेनिकल इंजीनियर है। विजय रूपाणी ने अपनी तीसरी संतान पुजित को 15 साल पहले खो दिया था। महज 3 साल की उम्र में उसकी मौत हो गई थी।

ये भी देखें

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...