दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन में पिछले तीन सालों से चले आ रहे सूखे के चलते लोगों को भारी जलसंकट का सामना करना पड़ रहा है। जल वायु परीवर्तन के कारण कई जगहों पर सूखा पड़ रहा है। यहां पानी की भारी किल्लत हो रही है। अफ्रिका की इस परेशानी से भारत को भी सीख लेनी चाहिए। इस शहर के पास कुछ दिनों का ही पानी बचा है। इसी कारण यहां डे जीरो के चलते यहां डे जीरो के तहत सारे नलों से पीनी की आपूर्ती बंद कर दी गई है।

केपटाउन

हालात इतने गंभीर है कि लोगों को सप्ताह में सिर्फ दो बार नहाने और शौचालय में फ्लश के लिए टंकी के पानी का उपयोग करने पर रोक लगा दी गई है। पिछले तीन साल से पानी की किल्लत झेल रहा दक्षिण अफ्रीका के इस शहर में साल में औसतन 508 मिलीलीटर बारिश दर्ज होती है और पिछले साल यहां मात्र 153,221 और 327 मिमी ही बारिश यहां होती है। पानी की कमी के कारण सरकार ने यहां रोज पानी के इस्तेमल पर सीमा तय कर 87 से 50 लीटर कर दी है। अब डे जीरो के तहत कैपटाउन में 75 फीसदी घरों की पानी की सप्लाई बंद करने की योजना बनाई है। इसका मत्लब ये है कि 10 लाख से ज्यादा घरों में पानी मिलना बंद हो जाएगा।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


दक्षिण अफ्रीका: सोने के खदान में फंसे 950 से अधिक मजदूर

सरकार का कहना है कि शहर में करीब 200 जल प्वाइंट बनाए जाएंगे यहां से लोगों को 25 लीटर पानी मिलेगा। इन प्वाइंटो पर पुलिस के साथ सेना के लोग भी तैनात रहेंगे। सरकार ने सिचाई में पानी के उपयोग भी पहले के मुकाबले बेहद कम कर दिया है। इसके अलावा समुद्र के पानी को साफ करने की कोशिशें की जा रही हैं। पानी का संकट इतना गहरा है कि नालियों के पानी को रिसाइकल किया जाना शुरू हो गया है।

ये भी देखिए…

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...