वाराणसी। गोरखपुर में बाढ़ग्रस्‍त क्षेत्रों का दौरा करने के बाद शनिवार को विकास कार्यों का जायजा लेने सीएम योगी आदित्‍यनाथ वाराणसी पहुंच गए हैं। सीएम योगी ने अधिकारियों के साथ बैठक कर अब तक होने वाले विकास कार्यों पर सवाल जवाब किया। सीएम ने पीएम नरेन्‍द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में लोगों को शुद्ध पानी न मिलने की शिकायत पर जल निगम के अफसर से पूछा कि आखिर कब तक शहर को शुद्ध पानी मिलेगा?

आखिर योगी ने क्यों कहा, मैं सिर्फ मुख्यमंत्री नहीं

इस पर जब अफसर ने सफाई देनी चाही तो कुछ सीएम ने कहा कि बहानेबाजी कत करो। मुझे पता है, गड़बड़ी कहां हुई है। कब तक पेयजल पाइप लाइनों को सीवर लाइन से अलग कर दोगे, इसके बारे में बताओ? वहीं, सीएम योगी से अफसरों ने व्‍यवस्‍थाएं दुरूस्‍त करने के लिए एक महीने का समय मांगा है। मुख्यमंत्री ने दो टूक कहा, अगली बार आउंगा और दूषित पानी की शिकायत मिली तो सख्त कार्रवाई होगी।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


शुद्ध पानी

भ्रष्‍ट अधिकारियों की रिपोर्ट

सीएम ने पीएम मोदी के सांसदीय क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों को लेकर लापरवाही बरतने और लेट-लतीफ करने को लेकर भ्रष्‍ट अधिकारियों की रिपोर्ट मांगी है।  सीएम ने चेतावनी देते कहा- ”भ्रष्ट अधिकारी अपनी आदतों को जितनी जल्‍दी हो सके सुधार लें, अन्यथा कठोर कार्रवाई की जाएगी।”

हृदय योजना के तहत बनारस में चल रहे निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार की शिकायतें आ रही हैं। इसपर उन्‍होंने कमिश्‍नर नितिल रमेश गोकर्ण व डीएम योगेश्‍वर राम मिश्र को जांच के निर्देश दिए हैं। साथ ही रपोर्ट तैयार करने को कहा है।

योगी फरमान: काम में सुस्ती से 10 साल पहले ही चली जायेगी नौकरी

इसके बाद सीएम दीन दयाल उपाध्‍याय अस्‍पताल पहुंचे और यहां मरीजों से मुलाकात कर व्‍यवस्‍थाओं के बारे में जानकारी ली। सीएम ने डॉक्‍टरों को किसी भी तरह की लापरवाही मरीजों के साथ नहीं बरतने के आदेश दिए।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...