संसद में कांग्रेस की एक महिला सांसद के हंसने और उस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी के बाद सियासी जंग छिड़ी हुई है। कांग्रेस इसे नारी जाति का अपमान बता रही है तो वहीं बीजेपी के लोग इसमें कुछ भी अनुचित मान रहे। बता दें कि बुधवार को राज्य सभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना पक्ष रख रहे थे तभी बीच में कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी हंस पड़ीं। उनकी हंसी पर सभापति वेंकैया नैयडू नाराज होकर उन्हें कुछ कहने लगे तो पीएम मोदी ने सभापति को डांटने से मना किया और कहा कि लंबे अर्से बाद ऐसी हंसी सुनाई दी है। बतौर पीएम रामायण सीरियल के बाद ऐसी हंसी सुनने को मिली है। कांग्रेस और खुद रेणुका चौधरी भी इसे विशेषाधिकार हनन मानती हैं और निजी टिप्पणी मानती हैं। कांग्रेस इसे महिला का अपमान कह रही है।

शिवसेना बोली, ऐसा रहा तो आ जाएगी दिल्‍ली में पकौड़े तलने की नौबत

दरअसल, संसद या विधानसभाओं में किसी सदस्य के हंसने का यह कोई पहला मौका नहीं है। इससे पहले भी लोकसभा, राज्यसभा या अन्य विधान सभाओं में नेताओं की बात पर दूसरे नेता हंसते रहे हैं और सदन का माहौल हल्का रहा है। नरेंद्र मोदी जब पीएम बनने के बाद गुजरात विधान सभा की सदस्यता से इस्तीफा देने पहुंचे थे तब उन्होंने सदन में जोरदार ठहाका लगाया था।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


नवंबर 2015 में जब लोकसभा में सोनिया गांधी ने संविधान सभा की बैठकों में कांग्रेस नेताओं की भूमिका पर डॉ. अंबेडकर की तारीफ की बात कही तो पूरा सदन ठहाका लगाने लगा था। खुद सोनिया भी हंसने लगीं। सदन में मौजूद पीएम मोदी भी मुस्कुरा रहे थे।

उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद जब योगी आदित्यनाथ बतौर सांसद अपनी सदस्यता से इस्तीफा देने लोकसभा पहुंचे तो उन्होंने सदन में शुरुआती दिनों की याद दिलाई। इस पर स्पीकर ने उन्हें कुछ ऐसा कहा कि सभी लोग हंसने लगे।

दिल्ली विधानसभा में कुछ यूं हंसे सीएम केजरीवाल और सभी सदस्य

ये भी देखें

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...