दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा ने राष्ट्रपति पद से इस्तीफा दे दिया। उनका कार्यकाल साल 2019 के आम चुनाव के साथ खत्म होना था। यूपी के सहारनपुर के रहने वाले तीन भाइयों की वजह से राष्ट्रपति जैकब जुमा को अपना पद त्यागना पड़ा। 1990 के दशक में भारत से दक्षिण अफ्रीका गए गुप्ता ब्रदर्स की जैकब जुमा के कार्यकाल के दौरान तमाम कथित घोटालों में केंद्रीय भूमिका रही है।

गुप्ता ब्रदर्स

गुप्ता बंधु अतुल, राजेश और अजय दक्षिण अफ्रीका में श्वेत शासन समाप्त होते ही 1993 में वहां चले गये थे। गुप्ता परिवार कंप्यूटिंग, खनन, विमानन, ऊर्जा, प्रौद्योगिकी और मीडिया समेत कई क्षेत्रों में कारोबार करता है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक गुप्ता बंधु 75 वर्षीय जुमा के करीबी मित्र हैं। जुमा का बेटा, बेटी और उनकी एक पत्नी गुप्ता बंधु की कंपनी में काम भी करते हैं।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


व्रेडे फार्म जांच फ्री स्टेट में व्रेडे के नजदीक स्थित एस्टिना डेयरी से जुड़ा है। इसे गरीब अश्वेत किसानों की मदद के लिये बनाया गया था। आरोप है कि गुप्ता परिवार ने इस डेयरी से लाखों डॉलर की कमायी की। हालांकि गुप्ता परिवार इससे इंकार करता रहा है। बुधवार को दक्षिण अफ्रीकी पुलिस की ख़ास यूनिट ‘द हॉक्स’ ने भारतीय मूल के कारोबारी गुप्ता परिवार के ठिकानों पर छापा मारा। पुलिस ने एक बयान में कहा कि इस मामले में तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई है जिनमें से गुप्ता बंधुओं में से एक भाई भी हैं। दो अन्य लोगों ने आत्मसमर्पण कर दिया है।

छोटे से कारोबार से अरबों की संपत्ति तक

गुप्ता परिवार अरबों रुपयों की संपत्ति का मालिक है। साल 2016 के जोहान्सबर्ग स्टॉक एक्सचेंज के आंकड़ों के आधार पर, अतुल गुप्ता दक्षिण अफ्रीका के सातवें सबसे अमीर व्यक्ति हैं। उनकी कुल सम्पत्ति करीब 4900 करोड़ रुपये है। ये लोग सहारनपुर से हैं। दक्षिण अफ़्रीका जाकर इन्होंने छोटा सा कारोबार शुरू किया।

पकौड़े के बाद भीख मांगना भी रोजगार में हुआ शामिल, आरएसएस नेता ने बताया कैसे

कार के बूट में रखकर जूते बेचते थे। इसके बाद गुप्ता बंधुओं ने कम्प्यूटर व्यापार में हाथ आजमाया। बाद में खनन और इंजीनियरिंग कंपनियों से लेकर, एक लक्ज़री गेम लाउंज, एक समाचार पत्र और 24 घंटे के समाचार टीवी स्टेशन में हिस्सेदारी ख़रीदी।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...