भारत में लंबे समय तक राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों की तूती बोलती रही है। इनकी स्पी़ड और सुविधाओं का हर कोई कायल रहा है। अब रेलवे तरह-तरह की नई ट्रेनें चलाकर अपनी इन दो वीआईपी ट्रेनों से भी ज्यादा सुविधाएं देकर यात्रियों को आकर्षित कर रहा है। इसी कड़ी में तेजस एक्सप्रेस ट्रेन शुरू करने की घोषणा की गई थी, जिसमें हवाई जहाज जैसी कई सुविधाएं होंगी।

हवाई टैक्सी उड़ान भारत में हो गई शुरू, अमेरिका वाले इंतजार ही करते रह गए

जून से पटरी पर आने की संभावना

तेजस एक्सप्रेस वैसे तो मई में ही चलाने की योजना थी। पर, अब इसका इंतजार एक महीने और बढ़ गया है। जून से पहली तेजस एक्सप्रेस के पटरी पर आने की संभावना जताई जा रही है। सबसे पहले यह गोवा-मुंबई रूट पर दौड़ेगी। पहली तेजस के डिब्बे रेल कोच फैक्टरी कपूरथला (पंजाब) में तैयार किए गए हैं।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


तेजस

तेजस एक्सप्रेस की सभी सीटों पर होगी एलसीडी की सुविधा।

तेजस एक्सप्रेस के सभी दरवाजे होंगे ऑटोमेटिक

तेजस एक्सप्रेस का सफर काफी कुछ हवाई जहाज के सफर का अहसास कराएगा। इसमें चाय-कॉफी के लिए वेंडिंग मशीनें होंगी। सबसे खास बात होगी हवाई जहाज की तरह ही मनोरंजन के लिए इस ट्रेन की हर सीट पर एलसीडी स्क्रीन लगी होगी। पूरी ट्रेन में वाई-फाई की सुविधा भी होगी। सबसे बड़ी बात यह कि दौड़ती तेजस में कोई चढ़-उतर नहीं पाएगा। 20 कोच वासी इस ट्रेन के सभी कोचों के दरवाजे ऑटोमेटिक होंगे। ये मेट्रो ट्रेनों के जैसे ही खुलेंगे और बंद होंगे।

हे प्रभु ! रेलवे साफ कहता है आप अपना पूरा किराया भी नहीं दे पाते, यह यात्रियों के गाल पर तमाचा नहीं तो और क्या है…

आंखों को सुहाने वाले होंगे रंग

रेल मंत्रालय के एक अफसर के अनुसार, यह ट्रेन काफी खूबियों से भरी होगी। पत्रिकाओं और नाश्ते के लिए मेजें होंगी। बाथरूम में वाटर लेवल इंडीकेटर्स, सेंसर्ड टैप और हैंड ड्रायर्स लगे होंगे। भोजन भी ऐसा-वैसा नहीं परोसा जाएगा, बल्कि खास शेफ द्वारा तैयार मनपसंद भोजन यात्रियों को मिलेगा। इसका कैटरिंग सिस्टम राजधानी और शताब्दी ट्रेनों की ही तरह होगा। ट्रेन के अंदर का रंग बाहर के रंग से मैच करेगा

सुरक्षा के लिए विशेष इंतजाम

यात्रियों को विश्व स्तर की यात्रा सुविधा मुहैया कराने के साथ ही तेजस में सुरक्षा के खास इंतजाम भी होंगे। एलसीडी स्क्रीन से केवल मनोरंजन ही नहीं होगा। इस पर यात्रियों को सुरक्षा से जुड़ी जानकारियां भी दी जाएंगी। इनमें आग और धुएं का पता लगाने वाला और उन्हें रोकने वाला सिस्टम भी होगा।

ट्रेन में यात्रा के लिए होंगे दो क्लास

ट्रेन में एग्जिक्यूटिव क्लास और चेयर कार वाले कोच होंगे। देखने में अक्षम लोगों के लिए इस ट्रेन में इंटीग्रेटेड ब्रेल डिस्प्ले, डिजिटल डेस्टीनेशनल बोर्ड और इलेक्ट्रॉनिक रिजर्वेशन चार्ट लगाए जाएंगे। मुंबई-गोवा के बाद दूसरी तेजस दिल्ली-चंडीगढ़ रूट पर दौड़ाई जा सकती है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...