अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दुनिया को एक संदेश दे रहे हैं। इसमें वह कह रहे हैं, इससे हमारे दोस्त बेफिक्र होंगे और दुश्मन खौफ से कांपेंगे। अब इस बात से ट्रंप क्या इशारा कर रहे हैं आइए हम आपको बताते हैं।

अमरीकी नौसेना में शामिल

दरअसल अमरीकी नौसेना में अब तक दुनिया का सबसे विशाल विमानवाहक पोत शामिल किया गया है। इसका नाम यूएसएस गेराल्ड आर फोर्ड है। इसी मौके पर अमरीकी राष्ट्रपति ने यह बात कही कि यह पोत 10 हजार टन का संदेश दे रहा है।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


आठ साल में बना युद्धपोत

यह अमरीकी युद्धपोत सबसे महंगा पोत है। इसकी लागत 845 अरब रुपये है। यही नहीं, इसको बनाने में आठ साल का समय लगा और इसका फ्लाइट डेक पांच एकड़ क्षेत्रफल में फैला है।

अमरीकन नेवी को मिल गयी आज़ादी, चीन पर भारी पड़ेगी ये ट्रंप चाल

220 उड़ानें रोज भर सकते

इसके डेक पर एक साथ 75 एयरक्राफ्ट खड़े हो सकते हैं। इससे रोज 220 उड़ानें भरी जा सकती हैं। यूएसएस गेराल्ड आर फोर्ड की तकनीक बेहद अत्याधुनिक है। इसका नेविगेशन डिस्प्ले पूरी तरह टचस्क्रीन का है।

अपने आप चलेगा यह पोत

युद्धपोत के अधिकारी जोस ट्रिना की मानें तो कह सकते हैं कि यह पोत अपने आप चलता है। इसमें कोई भी पारंपरिक सिस्टम नहीं लगा है। इस पोत पर विमान बेहद तेजी से उड़ान भर सकेंगे और आसानी से लैंड होंगे।

कम नौसैनिकों की जरूरत

इसमें बेहद कम नौसैनिकों की भी जरूरत होगी। यूएसएस गेराल्ड पर 2600 नौसैनिक तैनात किए जाएंगे। इस श्रेणी के दूसरे पोत के लिए 600 ज्यादा नौसैनिकों की जरूरत होती है।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...