निकले थे हरी भजन को ओटन लगे कपास… राम रहीम को अपने लिए अब भी अच्छे दिनों की उम्मीद है. इसीलिए उसने सीबीआई कोर्ट के निर्णय के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील की थी. लेकिन पट्ठे को पहले ही पायदान पर मुंह की खानी पड़ी है. दरअसल राम रहीम के वकील ने जो याचिका हाईकोर्ट में दायर की थी, वह टेक्निकल पेंच में फंस गयी है.

…जब राम रहीम की दरिंदगी से साध्वियों को बचाते थे पीरियड्स

टेक्निकल पेंच


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


दरअसल राम रहीम के वकील एस के गर्ग नरवाना ने सीबीआई कोर्ट के फैसले के खिलाफ ये याचिका हाईकोर्ट में  दाखिल की थी. हाईकोर्ट की रजिस्ट्री ने इस याचिका पर आब्जेक्शन लगाते हुए इस याचिका को ठीक करके दोबारा याचिका दायर करने का निर्देश जारी किया है. वाकई बेचारे राम रहीम के तो बहुत ही बुरे दिन चल रहे हैं.

पहले दो साध्वियों से रेप का दोषी ठहराया गया. उसके बाद 20 साल की सजा तो हुयी ही साथ ही दोनों मामलों में 15-15 लाख का जुर्माना भी कोर्ट द्वारा लगाया गया है. इसी मामले राम रहीम रोहतक जेल में 20 साल की सजा काट रहा है. राम रहीं ने इसी सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दायर की थी.

सामने आई राम रहीम की नई खौफनाक बीमारी, डॉक्टरों ने कहा-बचाना नामुमकिन

राम रहीम को जब सीबीआई कोर्ट ने दोषी ठहराते हुए सजा सुनाई थी तो उस समय जज जगदीप सिंह ने टिप्पणी की थी कि लड़कियां जिसे भगवान् मानकर पूजा करती थीं, उसने उन्हीं के साथ घिनौनी हरकत की. उस समय उन्होंने कहा था कि गुरमीत पर लगे आरोप गंभीर हैं और किसी भी हाल में वह दया का हक़दार नहीं है.

अदालत ने कहा था कि,’दोषी ने उन साध्वियों का यौन शोषण किया है जो उसे पिता की तरह मानती थीं और भगवान् की तरह पूजती थीं. पीड़ितों का विश्वास तोड़कर उसने उनका शारीरिक और मानसिक शोषण किया है. चूंकि पीड़िता उसी के संरक्षण में रहती थीं, इसलिए ये कस्टोडियल रेप से कम नहीं है. सीबीआई कोर्ट ने इसे रेयरेस्ट ऑफ़ रेयर केस माना था.

सीबीआई कोर्ट ने ये भी कहा था कि दोषी ने खुद को भगवान् के रूप में प्रस्तुत किया और अपनी ताकत का दुप्रुपयोग करते हुए उसने मासूम लड़कियों का रेप किया है.  इसका असर पूरे समाज पर होगा, इसीलिए ये रेयरेस्ट ऑफ़ रेयर केस है, जिसके लिए दोषी अधिकतम सजा का हकदार है.

…तो मरने वाला है राम रहीम, जेल से सिर्फ 13 मिनट में पीजीआई किया गया शिफ्ट

हनीप्रीत की ओर से भी दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी, जिसमें मांग की गयी थी कि उसे सरेंडर करने के लिए तीन हफ्ते का वक़्त दिया जाए. इसके अलावा हनीप्रीत ने भी हर तरह के सहयोग के लिए भी कहा था, लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने उसकी भी याचिका खारिज कर दी. अब बाप बेटी कहें या शौहर और बीवी दोनों की हालत जल बिन मछली जैसी हो गयी है.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...