वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कारनामा कर दिखाया है, जो दुनिया में अच्छे नेताओं की कमी दूर करेगा। उन्होंने दुनिया का पहला कृत्रिम बुद्धि वाला राजनीतिज्ञ रोबोट विकसित किया है। यह आवास, शिक्षा, आव्रजन संबंधी नीतियों जैसे स्थानीय मुद्दों पर पूछे गए सवालों के जवाब दे सकता है।

आभासी राजनीतिज्ञ का नाम सैम

इतना ही नहीं, उसे 2020 में न्यूजीलैंड में होने वाले आम चुनाव में उम्मीदवार बनाने की तैयारियां भी जोरों पर हैं । इस आभासी राजनीतिज्ञ का नाम सैम (एसएएम) रखा गया है। इसे न्यूजीलैंड के 49 वर्षीय उद्यमी निक गेरिटसन ने विकसित किया है।

मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए डॉक्टर की क्या जरूरत जब रोबोट कर देगा यह काम


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


राजनीति में कई पूर्वाग्रह दिख रहे

उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि फिलहाल राजनीति में कई पूर्वाग्रह हैं। प्रतीत होता है कि दुनिया के देश जलवायु परिवर्तन और समानता जैसे जटिल मुद्दों का हल नहीं निकाल पा रहे हैं।

प्रतिक्रिया देना सीख रहा रोबोट

उन्होंने कहा कि कृत्रिम बुद्धि वाला राजनीतिज्ञ फेसबुक मैसेंजर के जरिये लोगों को प्रतिक्रिया देना लगातार सीख रहा है। गेरिटसन मानते हैं कि एल्गोरिदम में मानवीय पूर्वाग्रह असर डाल सकते हैं। लेकिन उनके विचार से पूर्वाग्रह प्रौद्योगिकी संबंधी समाधानों में चुनौती नहीं है।

जियो राजा! फर्स्ट ग्लोबल रोबोटिक्स में भारतीय छात्रों ने कर दिया कमाल

राजनीतिक अंतर को भरने में मददगार

टेक इन एशिया की खबर में कहा गया है कि प्रणाली भले ही पूरी तरह सटीक न हो, लेकिन यह कई देशों में बढ़ते राजनीतिक और सांस्कृतिक अंतर को भरने में मददगार हो सकती है।

2020 में न्यूजीलैंड में होंगे आम चुनाव

न्यूजीलैंड में साल 2020 के आखिर में आम चुनाव होंगे। गेरिटसन का मानना है कि तब तक सैम एक प्रत्याशी के तौर पर मैदान में उतरने के लिए तैयार हो जाएगा।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...