जब डॉक्टर उसके दिमाग में छेद कर रहे थे, तब वह गिटार बजा रहा था। कोई कोरी कल्पना नहीं है यह। घटना एकदम सच्ची और बेंगलुरु की है। वहां के एक हॉस्पिटल में एक संगीतकार अपने दिमाग की सर्जरी के दौरान गिटार बजा रहा था।

गिटार

11 जुलाई को की गई सर्जरी

भगवान महावीर जैन अस्पताल के डॉक्टरों ने इसका खुलासा भले ही गुरुवार को किया, पर सर्जरी इसी महीने की 11 तारीख को की थी। सर्जरी भी कोई ऐसी-वैसी नहीं थी। यह ऑपरेशन दिमाग की सर्किट से जुड़ा था।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


देश में ऐसी पहली सर्जरी

संभवतः देश में दिमाग की सर्किट से जुड़ी यह पहली सफल सर्जरी भी है। यह सर्जरी गिटार वादकों को दिक्कत में डालने वाली एक गड़बड़ी को ठीक करने के लिए की गई। सर्जरी के बाद 37 वर्षीय संगीतकार अभिषेक प्रसाद अब स्वस्थ हैं।

गिटार

गिटार बजाने में दिक्कत

अभिषेक के दिमाग में ऐसी दिक्कत आ गई थी कि जब भी वह गिटार बजाने के लिए थामते, उनके एक हाथ की अंगुलियां सिकुड़ने लगतीं। हॉस्पिटल पहुंचे संगीतकार को डॉक्टरों ने बताया कि इस स्थिति को म्यूजिशियंस डिस्टोनिया कहा जाता है।

डॉक्टरों ने दी सर्जरी की सलाह

साथ ही इस दिक्कत को दूर करने के लिए सर्जरी की सलाह दी। 11 जुलाई को डॉक्टरों ने उन्हें एनेस्थीसिया देकर सर्जरी शुरू की। दिमाग में छेद करके एक एलेक्ट्रोड डालकर यह पता लगाया कि दिक्कत किस हिस्से में है।

27 कॉन्टैक्ट लेंस आंखों में फंसा लिए और भूल गई ब्रिटेन की यह महिला

सर्जरी के दौरान चैतन्य थे अभिषेक

हॉस्पिटल के डॉ. सरन श्रीनिवासन ने बताया कि पूरी प्रक्रिया के दौरान अभिषेक पूरी तरह से चैतन्य थे। वह सर्जरी के दौरान गिटार बजाते रहे क्योंकि दिक्कत तभी आती थी, जब वह ऐसा करने की कोशिश करते थे।

सर्जरी संग दूर होती गई दिक्कत

अभिषेक ने सात घंटे लंबी सर्जरी से जुड़े अपने अनुभव भी साझा किए। उन्होंने कहा, जैसे-जैसे सर्जरी की प्रक्रिया आगे बढ़ी उनकी अंगुलियां और कुशलता से काम करने लगीं। मुझे इस बात पर आश्चर्य हो रहा था कि ऑपरेशन टेबल पर ही इसमें सुधार हो रहा था।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...