हायपरलूप वन कैप्सूल ट्रेन तेलंगाना के बजाय महाराष्ट्र में चलेगी। पहले इसके लिए तेलंगाना के अमरावती शहर में सर्वे किया गया था। लोगों की आवाजाही कम होने की वजह से तेलंगाना में हायपरलूप कैप्सूल ट्रेन का निर्माण सफल नहीं हुआ।

जेट की रफ्तार से भी ज्यादा तेज

इस ट्रेन से मुंबई से पुणे 12 मिनट में पहुंचना संभव हो सकता है। यह जेट की रफ्तार से भी तेज दौड़ती है। पुणे में इसके लिए अध्ययन भी शुरू हो गया है, जो डेढ़ माह में पूरा होगा। टेसला के सीईओ एलन मस्क की कंपनी हायपरलूप वन इसका निर्माण करेगी।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


हर घंटे चाहिए पांच हजार यात्री

इसके लिए पुणे मेट्रोपॉलिटन रिजन डिवेलपमेंट अथॉरिटी ने हायपरलूप वन कंपनी के साथ मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के उपस्थिति में करार किया है। बता दें कि हायपरलूप कैप्सूल ट्रेन के निर्माण का खर्च निकालने के लिए प्रति घंटे सफर के लिए 5000 यात्री चाहिए।

बुलेट ट्रेन को मारो गोली, अमरीका के बाद सीधे भारत में दौड़ेगी प्लेन से भी तेज ट्रेन

सिर्फ पुणे-मुंबई के बीच इतने लोग

भारत में सिर्फ मुंबई-पुणे के बीच इतनी बड़ी संख्या में लोग हर घंटे सफर कर रहे हैं। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई और महाराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी पुणे को जोड़ने वाला एक्सप्रेसवे और रेलवे को जोड़कर ये संख्या और भी ज्यादा हो जाती है।

ट्रेन निर्माण का खर्च कंपनी करेगी

इन दोनों शहरों की कुल आबादी लगभग दो करोड़ है। अकेले मुंबई की आबादी 1.25 करोड़ है। इस ट्रेन के निर्माण का खर्च हायपरलूप वन कंपनी खुद करेगी। कंपनी इसके टिकट से होने वाली कमाई से अपना धन वापस लेगी।

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...